झीलों की नगरी – भोपाल

भोपाल को झीलों की नगरी कहा जाता है पर ऐसा लगा नहीं। शाहपुर झील पर ठीक लगा.
वन विहार में अधिक आनन्द नहीं आया। गर्म मौसम  के कारण पशु-पक्षी जन्तु खुल कर बाहर विचरते नज़र नहीं आए –

20180331_110611.jpg

लेकिन जंगल से क्षेत्र में घूमना अच्छा लगा –

 

कुछ और आकर्षण भी रहे – राजा भोज सेतु अच्छा लगा और पानी में राजा भोज की मूर्ति भी –

20180331_114208.jpg

 

 

 

20180331_115036.jpg

 
इसके अलावा कुछ स्थानों पर दीवारों पर उकेरी गई मध्य प्रदेश की संस्कृति की झलक भी अच्छी लगी –
इसके बाद हम हैदराबाद लौट आए।

Advertisements

टिप्पणी करे

भीमबेटका – भीमबैठका

भोपाल के इस विशिष्ट स्थल का नाम कहीं भीमबेटका है कहीं भीमबैठका
पहाङों को काट कर बनाए गए शैलाश्रय ( रॉक शेल्टर ) है। अंतिम छोर पर पहाङ काट कर बनाई गई गुफा में वैष्णव देवी का मंदिर है –

20180330_075629

 

घूम-घूम कर विभिन्न शैलाश्रय हमने देखे। विभिन्न कलाकारों ने अपनी कला की छाप छोङी। एक पहाङी पर पत्थर उकेर कर केवल जंतुओं के चित्र बनाए गए जिससे इसे जंतु शैलाश्रय कहा जाता है –

20180330_081928

 

पत्थरों पर की गई विभिन्न चित्रकारी है,  इसके अलावा पहाङों को विशिष्ट आकार देते हुए भी काटा गया जैसे मगरमच्छ की तरह –

20180330_083921

 

इसके बाद हम गए वन विहार और नौका विहार करने जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में  …..

 

टिप्पणी करे

महाकाल – उज्जैन

महाकाल का मंदिर स्थित है उज्जैन नगरी में। यहाँ दो ज्योतिर्लिंग है – महाकालेश्वर और ओंकारेश्वर
यहाँ हर समय श्रृद्दालुओं का तांता लगा रहता है। परिसर की कतार पार करने के बाद सीढिनुमा रास्ता पार कर हम ऊपर पहुँचते है। यहाँ रैलिंग से नीचे नंदी और शिवलिंग के स्पष्ट दर्शन हो जाते है। नीचे उतर कर सामने से दर्शन करना भीङ के कारण थोङा कठिन ही होता है।

परिसर में गर्भगृह में दुसरे ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर के दर्शन होते है। इसके अलावा विभिन्न गर्भगृहों में विभिन्न देवी-देवताओं साक्षी गणेश, गायत्री माँ, बृहस्पति देवता, नवग्रह के रूप में शिवलिंग के दर्शन किए जा सकते है।

प्रंगण में विशेष है महाकाल की मूर्ति – शिव जी जिनके बाईं ओर गोद में पार्वती और दाहिनी ओर त्रिशूल। सामने पात्रों में भस्म रखी है। यह भस्म तङके होने वाली भस्मारती की होती है। सुबह चार बजे होने वाली यह भस्म आरती ही महत्वपूर्ण मानी जाती है जिसमें शामिल होने के लिए रात एक बजे से श्रृद्धालु लाइन लगाते है। भस्म शमशान से आती है।  हर रोज़ शमशान से आनी वाली भस्म से पुरोहित आरती करते है और आरती की इस भस्म को इस तरह उङाया जाता है कि सभी श्रृद्धालुओं के सिर पर गिरे और आशिर्वाद मिले। यही भस्म महाकाल की मूर्ति के आगे आँगन में रखी जाती है जिससे आरती में शामिल न होने वाले श्रृद्धालु भी कभी भी दर्शन के बाद भस्म पा सके।

यहाँ की एक भी तस्वीर लेने में पह असमर्थ रहे।
इसके बाद हम गए भीमबेटका जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में  …..

 

टिप्पणी करे

राजा भोज और विजयावासिनी मंदिर

राजा भोज ने ग्यारहवीं शताब्दी में बनवाया था यह शिव मंदिर –

20180328_164320

पहाङों को काट कर बनाए जाने से यह ऊँचाई पर स्थित है –

20180328_165702

इसका मुख्य आकर्षण है एक ही पत्थर से बनाया गया शिवलिंग और उसका आधार –

20180328_164126

इसके बाद हम गए सलकनपुर

भोपाल के पास है सलकनपुर जहाँ स्थित है माँ विजयावासिनी का मंदिर। यहाँ दर्शन होते है विजयवासिनी माता के –

20180328_191042

 

20180328_191348
इसके बाद हम पहुँचे मध्य प्रदेश के विशेष आकर्षण उज्जैन नगरी में जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में  …..

 

Comments (1)

हलाली बॉध और सैर सपाटा

भोपाल में हलाली नदी पर बने बॉध का उद्गाटन हेमामाविनी ने किया जिससे इसे स्थानीय लोग हेमामालिनी बाँध भी कहते है –

20180328_150936

इसके बाद हम गए सैर सपाटा  … जैसे कि नाम से पता चलता है, मध्य प्रदेश पर्यटन विभाग का एक ऐसा प्रयास जहाँ शाम अच्छी बीतती है –

20180331_180122

20180331_183951

बच्चों के लिए विभिन्न तरह के झूले है। बोटिंग की भी व्यवस्था है।
इसके बाद हमने देखा भोजपुर शिव मंदिर और सलकनपुर माँ विजयावासिनी का मंदिर जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में  …..

 

टिप्पणी करे

कर्क रेखा और सॉची स्तूप

भोपाल में सबसे पहले हम देखना चाहते थे – कर्क रेखा
विश्व को एक निश्चित कोण से विभाजित करती कर्क रेखा हमारे देश में मध्य प्रदेश से हो कर गुज़रती है जिसे भोपाल से सांची स्तुप जाते समय साँची रोड पर देखा जा सकता है –

20180328_152628

 

सङक के दोनों ओर बोर्ड लगा है और बीच में सङक पर खिची है रेखा

इसके बाद हमने देखे सॉची स्तूप

सम्राट अशोक ने सॉची में स्तूपों का निर्माण करवाया। यह स्तूप शान्ति का संदेश देते है इसीसे इसे विश्व धरोहर माना गया है –

20180328_122553

तीन बङे स्तूप है, गोल बङे घेरे में बने हुए। दुमंज़िला बने है। गलियारे में बुद्ध की मूर्तियां है जो कहीं-कहीं टूट गई है –

20180328_121642

छोटे-छोटे कई स्तूप भी है –

20180328_124942

इनसे जुङा संग्रहालय भी है जो कुछ ही दूरी पर है। यहाँ एक अँग्रेज़ द्वारा बनवाया गया दुमंज़िला घर उस दौर की शैली में बना है जिससे यह आकर्षण का केन्द्र है
संग्रहालय में विभिन्न खुदाइयों में मिली बौद्धकालीन सामग्री है जिसमें उस दौर की मूर्तियाँ, बर्तन आदि है।

इसके बाद हमने देखा हलाली डैम फिर पहुँचे सैर सपाटा जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में  …..

 

टिप्पणी करे

पथ के दावेदार

शरद चन्द्र ने केवल सामाजिक स्थितियों पर ही कलम नही चलाई बल्कि देश में हो रही उथल-पुथल से भी पूरी तरह परिचित रहे। इतना ही नही विदेशो की स्थितियां और वहां के इतिहास की भी उन्हें बखूबी जानकारी थी। जब देश में अंग्रेजों का राज था तब उन्हें लगता था कि स्वाधीनता के संघर्ष के लिए सबसे पहले मज़दूरों को एकत्र होना हैं। इसका परिचय हमें मिलता हैं उनके उपन्यास पथ के दावेदार में।

इस उपन्यास में लेखक ने बताया है कि   1763 में मुम्बई में सबसे पहले रूई का कारखाना खुला था। यूरोप आदि देशो की तरह यहाँ भी  मज़दूरों को संगठित होने की आवश्यकता हैं। मज़दूर क्रान्ति पर विश्व की स्थिति भी स्पष्ट हुई हैं। इस उपन्यास का एक पात्र है – रामदास जो कहता हैं –

” मैं देश के कल-कारखानों और कुली मज़दूरों के बीच ही जीवन बिताता रहा हूँ, वास्तव में इन लोगो को देखे बिना देश की वास्तविक स्थिति का ज्ञान हो ही नहीं सकता। ”

और इसी उद्येश्य से एक संस्था बनी – पथ के दावेदार … इस संस्था के प्रमुख कार्यकर्ता हैं –  सव्यसाची जो गिरीश महापात्रा और डॉक्टर के नाम से भी जाने जाते है जिनका वास्तविक नाम शैल हैं। इस संघर्ष में सव्यसाची के साथियों को फांसी भी हो चुकी है इसीसे वह भेष बदल कर घूमते हैं।

अशिक्षित मज़दूरों में जाग्रति लाने वाली  नेता सुमित्रा देवी इस संस्था की अध्यक्ष हैं जिनके बारे में लोगो का कहना हैं कि एक बंगाली महिला विश्व भ्रमण करती हुई बर्मा आई हैं, वो जितनी रूपमयी है उतनी ही शक्तिशाली भी।

लेखक का यह मानना है कि मज़दूर संगठित नही हैं तभी कोई भी उन पर आसानी से शासन करता हैं जिसका व्यापक असर समाज पर पडता हैं। समाज की जागरूकता के लिए शिक्षा के साथ-साथ मज़दूरों का संगठन भी आवश्यक हैं। नेता सुमित्रा देवी स्वयं भी मानती थी और दूसरो से भी कहती थी कि महिलाओं के लिए भी घर – परिवार, रिश्तेनातों से ऊपर देश होना चाहिए।

इन सारी गतिविधियों का स्थान बर्मा हैं। सुमित्रा नाम सव्यसाची का ही दिया हुआ है जो सुमात्रा द्वीप में तस्करी करती हुई पकड़ी गई थी, पुलिस से छुडवाने के बाद इसी द्वीप के नाम पर रखा, वास्तविक नाम रोज़ है जिससे एक गिरोह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अफीम की तस्करी करवाना चाहता था जिसे छोड कर सुमित्रा ने सव्यसाची के साथ काम करना पसंद किया।

उपन्यास में उस समय का कथानक है जब विश्व के विभिन्न देशों में अराजकता थी। भारत अंग्रेजों द्वारा शासित था।  भारत  की इस समय की स्थिति के बारे में सव्यसाची कहते हैं –

“स्वाधीनता का दावा करना, उसके लिए चेष्टा करना तो दूर की बात हैं, उसकी कामना करना, कल्पना करना भी अंग्रेजों के कानून में राजद्रोह माना गया हैं। मैं उसी अपराध का अपराधी हूँ।”

उपन्यास की एक मुख्य पात्र  भारती बंगाली माँ और अंग्रेज़ पिता की संतान होने से ईसाई माहौल में पली-बढी हैं पर दोनों की मृत्यु के बाद अनाथ होने से काम की तलाश में सुमित्रा से मिलती हैं और जुडती है इस संस्था से जिससे समाज की विकट स्थिति पर सव्यसाची  कहते हैं –

“शिल्प गया, व्यापर गया, धर्म गया, ज्ञान गया, नदियों की छाती सूख कर मरूस्थल बनती जा रही हैं। किसान को भर पेट खाने को अन्न नहीं मिलता, शिल्पकार विदेशियों के द्वार पर मज़दूरी करता हैं।  बंगाल के दस लाख नर नारी प्रति वर्ष मलेरिया से मर जाते हैं। एक युद्धपोत का मूल्य कितना होता हैं जानती हो, उनमे से केवल एक के ही खर्च से दस लाख माताओं के आसूं पोछे जा सकते हैं।”

भारती ने कहा –  ” योरोपियन सभ्यता ने क्या तुम लोगो की भलाई नहीं की ? सती दाह की प्रथा, गंगा सागर में संतान विसर्जन। ”

इस पर डॉक्टर का स्पष्टीकरण – ” तुच्छ बातो को विराट बना कर देश के प्रति देशवासियों के मन को विमुख कर दिया। ”

इस स्पष्टीकरण से लेखक ने गुलामी की जड़ों की ओर इंगित किया है और उस समय जाति के भेद भाव और छुवाछूत से खण्डो में बंटे समाज की आलोचना लेखक ने भारती  के मुख से की –

“मनुष्यता  पर मनुष्य के अत्याचार आँखे खोल कर देखने चलिए। केवल छुवाछूत फैला कर, अपने आप साधु बन कर सोचते है कि पुण्य संचय करके एक दिन स्वर्ग जांएगे, ऐसा सोचिएगा भी नहीं।”

इन विकट स्थितियों में डॉक्टर का कहना हैं – ” भारत की स्वाधीनता ही मेरा एकमात्र लक्ष्य हैं, मेरा एकमात्र साधन हैं … इसके अतिरिक्त मेरे जीवन में मेरे लिए कही भी कुछ भी नही हैं। ”

अपूर्व इस उपन्यास का एक और प्रमुख पात्र हैं जो इन सारी विसंगतियों से दूर नौकरी कर शान्ति से जीवन यापन करना चाहता हैं।  भारती अपूर्व से पथ के दावेदार संस्था का सदस्य बनने के लिए कहती हैं।  इस संस्था की गतिविधियों के बारे में भारती अपूर्व से कहती हैं –

“हम सब राही हैं। मनुष्यत्व के मार्ग से मनुष्य के चलने के सभी प्रकार के दावे स्वीकार करके, हम सभी बाधाओं को ठेल कर चलेंगे। हमारे बाद जो लोग आएगे, वे बाधाओं से बच कर चल सकें। यही हमारी प्रतिज्ञा हैं।”

उपन्यास में एक बात स्पष्ट हुई है कि स्वाधीनता के संघर्ष में पहली लडाई मज़दूरों की है, मज़दूरों को संगठित होना हैं. यह  पूंजीपतियों के विरूद्ध गरीबो की आत्मरक्षा की लडाई हैं जो स्वाधीनता के संघर्ष का आधार हैं। …. सव्यसाची से कहे गए भारती के इस संवाद से लेखक ने एक बहुत बडा प्रश्न उठाया है  कि क्या  इतनी बड़ी क्रान्ति बिना रक्त बहाए संभव हैं, भारती कहती है –

” मैं भारत की मुक्ति चाहती हूँ, निष्कपट भाव से … लेकिन विश्व मानव की एकांत सदबुद्धि की धारा क्या इस प्रकार समाप्त हो गई कि इस रक्त रेखा के अतिरिक्त किसी भी मार्ग का चिन्ह भी अब दिखाई न देगा ? ”

 

टिप्पणी करे

« Newer Posts · Older Posts »