Archive for साहित्य

भक्त कवि तुलसीदास

आज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी है. आज ही के दिन पन्द्रहवीं शताब्दी में तुलसीदास जी का जन्म हुआ था.

तुलसीदास मूल रूप से राम भक्त है. राम की कथा को ही अपनी बोली अवधि में विभिन्न ढंग से ढाला, एक भक्त के रूप में अपने आराध्य राम का गुणगान किया. इन सभी रचनाओं के माध्यम से राम की महिमा जन-जन तक पहुँची जिनमे सर्वाधिक लोकप्रिय है रामचरित मानस जिसमे राम की पूरी कथा है. वैसे तुलसी के भजन भी बहुत लोकप्रिय है.

वाल्मिकी रचित रामायण भाषा के कारण सर्वसाधारण तक नही पहुँच पाई, यह काम रामचरित मानस ने किया। यह स्पष्ट हो गया कि भक्त तुलसी अपने ईष्ट देव राम की महिमा के बखान के लिए ग्रन्थ रचते रहे. जनता अपनी बोली में पढ़ती रही और ये ग्रन्थ साहित्य की श्रेणी में आ गए यानि एक भक्त के भाव शब्दों में ढले और पाठकों ने भक्त को कवि बना दिया।

महाकाव्य रामचरित मानस और दोहो चौपाइयों की संख्या और इनकी लोकप्रियता के कारण ही अवधि बोली को भाषा का दर्जा मिला। साहित्य के क्षेत्र में यह अक्सर चर्चा का विषय रहा कि अवधि बोली है या भाषा और उत्तर यही रहा कि अन्य रचयिताओं से परे केवल तुलसी की ही रचनाएँ अवधि को बोली से भाषा का दर्जा दिलाने के लिए पर्याप्त है. 

रामचरित मानस में राम की कथा को इस तरह से प्रस्तुत किया कि राम का चरित्र मर्यादा पुरूषोत्तम बन कर उभरा यानि जो पुरूषों में सर्वोत्तम है और हर क्षेत्र में मर्यादा बनाए रखते है अर्थात जिसके चरित्र में कोई नकारात्मक गुण नही, ऐसा चरित्र प्रस्तुत कर समाज के सामने ऊँचे आदर्श ऊँचे जीवन मूल्य रखे और साहित्य में एक बोली को भाषा के स्तर तक ले गए, इन दो अनुपम योगदानों से समाज और साहित्य में विशिष्ट स्थान रखने वाले तुलसी को शत-शत नमन !

तुलसी ने अपनी देह त्यागी श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की तृतीया को सोलहवीं शताब्दी में लेकिन अपने योगदानों से तुलसी चिरंजीवी है.

टिप्पणी करे

जन्मदिन मुबारक मालती जोशी जी !

आज हिन्दी साहित्य जगत की ख्यात कथाकार मालती जोशी का जन्मदिन है।  

मालती जोशी जी की रचनाओं में आज के समाज के दोनों ही वर्गों की महिलाएं नज़र आती है – परम्परावादी और आधुनिक विचारों वाली। इनके इर्द-गिर्द सीधी सच्ची रचनाओं को बुना है मालती जी ने। रचनाएं पढ कर लगता है जैसे हम साहित्य नही पढ रहे बल्कि अपने आस-पास के किसी परिवार को देख रहे हैं। 

उपन्यास –  पिया पीर न जानी में सास पुरानी विचार धारा की है और बहू आधुनिक विचारों की, लेकिन यही पर लेखिका ने यह आभास भी दिया है कि उसकी सास की उम्र की महिलाएं भी आधुनिक विचार रखती है जैसे उसकी माँ है। कुछ पंक्तियाँ देखिए जो दूसरी बेटी के जन्म के समय की है  –

” तुम तो ऐसा जश्न कर रही हो जैसे लडका हुआ है। उन्होंने कसैले स्वर में कहा तो मैं चली आई। मेरे बाहर पाँव देते ही इनसे बोली इसीलिए मैं इस रिश्ते के लिए मना कर रही थी। पर उस समय तो तुम कुछ सुनने की स्थिति में नही थे न। इसकी माँ के भी तीन लड़कियां है। पता नहीं अब हमारे यहाँ भी लडका होगा या नहीं। नही तो पितर प्यासे ही रह जाएगे। ..ये और किसी कारण से मुझे मना करती तो मैं जिद न पकड़ती पर इनकी आखिरी बात ने मेरा खून खौला दिया। हाँ, हम तीन बहने ही थी पर हमारे माता-पिता ने हमें कभी यह अहसास नहीं होने दिया कि हम अनचाही संतान है। मैं भी अपनी बेटियों को यह अहसास कभी नही होने दूंगी। ”

लेकिन हम आज भी कितने ही आधुनिक बन जाए पर जीवन शैली को पारंपरिक ही रखना चाहते है। लडकियो को पढाएगे, नौकरी से आत्म निर्भर भी बनाएगे पर उसका अकेला रहना मंज़ूर नही करेगे। लड़कियों की शादी को आज भी अनिवार्य माना जाता है। कहाँ, कैसे, किससे शादी हो रही है, यह मायने नही रखता, बस .. एक ही बात सही लगती है कि विवाह हो गया यानि उसे अपना घर मिल गया, अब चाहे उसे पति छोड कर चला जाए तब भी उसे अकेला नही माना जाता। गोया कुँवारी अकेली समाज में ग्राह्य नही पर ब्याहता अकेली चलती है. कहानी – बहुरि अकेला इसी विषय पर है.

महिलाओं के सम्बन्ध में एक और कड़वी सच्चाई को भी मालती जी ने उजागर किया है कि जिस नौकरी से महिलाएं आत्म निर्भर बनती है उसी नौकरी पर परिवार के अन्य सदस्य भी निर्भर हो जाते है जिससे यह आत्मनिर्भरता कही अभिशाप तो कही कोल्हू का बैल भी बना देती है। यह अपनों द्वारा शोषण का एक रूप है।  कहानी – सन्नाटा की स्थिति देखिए  –

” एक समय था जब वह घंटो आईने के सामने बैठ कर निहारा कराती थी। उन दिनों कॉलेज भर में उसके रूप के चर्चे थे। इसी रूप जाल ने तो गिरीश को बांधा था इसी के बल पर तो वह बिना किसी दान-दहेज़ के इतने बडे घर में आ गई थी। बडा घर याद आते ही उसका मन कसैला हो उठा। ….  नौकरी भी अब उसके लिए शौकिया नहीं रही थी। वह जीवन की अनिवार्य आवश्यकता बन गई थी। बडा घर मात्र एक छलावा था। सारे सब्ज़ बाग़ दूर के ढोल निकले। वकालत की एक तख्ती ज़रूर टंग रही थी दरवाज़े पर ताकि कोई यह न कहे कि निठ्ठले है बीवी की कमाई खाते है।”

समाज के ऐसे कई चित्र है, न केवल महिलाओं से सम्बंधित बल्कि अन्य क्षेत्रो के भी जो मालती जी के साहित्य में बिखरे पडे है जिन पर चर्चा फिर कभी …..

मालती जोशी जी को जन्मदिन की अनेकों शुभकामनाएं !  
हम उनके अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु की कामना करते है

टिप्पणी करे

स्मृति शेष – रामधारी सिंह दिनकर

आज ख्यात हिन्दी साहित्यकार रामधारी सिंह दिनकर की पुण्यतिथि है

बिहार के बेगुसराय में जन्मे दिनकर जी को वर्ष 1972 में भारत सरकार से साहित्य का सर्वोच्च सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ, इसके दो वर्ष बाद 24 अप्रैल 1974 को उनका निधन हुआ। हिन्दी साहित्य में राष्ट्रीय भावनाओं की कविताओं के लिए दिनकर जी प्रसिद्ध हैं जिससे वो राष्ट्र कवि के नाम से लोकप्रिय हैं। साथ ही उनकी कविताओं में जीवन की कई छोटी-बड़ी बातों के साथ दार्शनिकता भी हैं। बच्चों के लिए भी उन्होंने कविताएँ लिखी हैं। दिनकर जी से मैं भी बचपन में ही परिचित हुई, जब मैं पांचवी कक्षा में पढ़ती थी तब पहली बार मैंने दिनकर जी की कविता पढी थी – पढ़क्कू की सूझ

एक पढ़क्कू बड़े तेज़ थे, तर्क शास्त्र पढ़ते थे, जहाँ न कोई बात, वहां भी नए  बात गढ़ते थे l
एक रोज़ वे पड़े फिक्र में समझ  नही कुछ पाए “बैल घूमता हैं कोल्हू में कैसे बिना चलाए ?”
कई दिनों तक रहे सोचते, मालिक बड़ा गज़ब हैं ? सिखा बैल को रक्खा इसने, निश्चय कोई ढब हैं l
आखिर एक रोज़ मालिक से पूछा उसने ऐसे “अजी, बिना देखे, लेते तुम जान भेद यह कैसे ?
कोल्हू का यह बैल तुम्हारा चलता या अड़ता हैं ? रहता हैं घूमता, खडा हो या पागुर करता हैं ?”
मालिक ने कहा, “अजी, इसमे क्या बात बड़ी हैं ? नहीं देखते क्या, गर्दन में घंटी एक पड़ी हैं ?
जब तक यह बजती रहती हैं, मैं न फिक्र करता हूँ, हाँ, जब बजती नही, दौड़कर तनिक पूंछ धरता हूँ”
कहा पढ़क्कू ने सुनकर “तुम रहे सदा के कोरे ! बेवकूफ !  मंतिख की बातें समझ सकोगे थोड़ी !
अगर किसी दिन बैल तुम्हारा सोच-समझ अड़ जाए, चले नहीं, बस, खडा-खडा गर्दन को खूब हिलाएl
घंटी टून – टून खूब बजेगी, तुम न पास आओगे मगर बूँद भर तेल सांझ तक भी क्या तुम पाओगे ?
मालिक थोड़ा हंसा और बोला पढ़क्कू जाओ, सीखा हैं यह ज्ञान जहाँ पर, वहीं इसे फैलाओ l
यहाँ सभी कुछ ठीक – ठाक हैं, यह केवल माया हैं, बैल हमारा नही अभी तक मंतिख पढ़ पाया हैं l

उस समय केवल इतना ही होता था कि हमें कविता याद करनी होती थी और उसमे से दो-तीन प्रश्नोत्तर भी याद करने होते थे। यह कविता हमारी कक्षा मे सबको इतनी अच्छी लगी कि बाद में भी कई दिनों तक हमें यह याद रही। मुझे हमेशा ही इसकी कुछ – कुछ पंक्तियाँ याद रही।

पहले तो कविता पढ कर मज़ा आता था और केवल शाब्दिक अर्थ ही समझते थे लेकिन जैसे -जैसे बडे होते गए इस रचना के अन्य अर्थ भी समझ में आने लगे। सबसे पहले समझ में आया मंतिख शब्द का अर्थ जो वही है जिसे कवि ने पहली पंक्ति में लिखा – तर्क शास्र

वैसे बचपन में न शब्द का अर्थ पता था न पता करने की आवश्यकता थी केवल तोते की तरह रट लिया था।

फिर एक और बात समझ में आई कि समाज में कुछ लोग दूसरो से मेहनत करवा कर खुद आराम से रहना चाहते हैं इसीलिए समाज में जानबूझ कर एक वर्ग के लोगों को अशिक्षित और अज्ञानी बना कर रखा हैं ताकि वे केवल मेहनत करते रहे। यदि सभी शिक्षित हो जाएगे तो तर्क – वितर्क करने लगेगे, बाते समझने लगेगे। तभी तो कोल्हू के बैल का मालिक पढ़क्कू से कहता है कि तुम अपना ज्ञान यहाँ मत फैलाओ, यहाँ सब ठीक है क्योंकि हमारे बैल ने अभी तक तर्क शास्त्र नहीं पढा हैं।

यहाँ एक और बात कवि ने कही है – यह केवल माया है

यानि मायाजाल में लोग उलझे हैं और जीवन जैसा हैं उसी तरह गुज़ार रहे हैं उन्हें ज्ञान का प्रकाश न दो।

आज आश्चर्य होता है कि इतनी बड़ी बात कहती रचना को बाल साहित्य में क्यों रखा गया ?

खैर … दिनकर जी की कुछ और रचनाओं पर चर्चा फिर कभी …..

हिंदी के गौरवशाली साहित्यकार को सादर नमन !

टिप्पणी करे

स्मृति शेष – महादेवी वर्मा

आज ख्यात हिन्दी साहित्यकार महादेवी वर्मा का जन्मदिवस है।

महादेवी वर्मा से मेरा परिचय बचपन में ही हुआ। पांचवी कक्षा में पाठ्यक्रम में एक पाठ पढा था – घीसा। उस उम्र में हम उसे पाठ ही कहते थे और पाठ ही कह कर पढाया जाता था। घीसा की शिक्षा के प्रति लगन और उसकी गुरू भक्ति की ओर ध्यान केन्द्रित करते हुए यह पाठ पढा-पढाया गया। अच्छा लगता था यह पढना कि घीसा सवेरे ही पढने के स्थान को लीप-पोत कर साफ़ करता और आँखों पर हथेली का साया बनाए नदी किनारे खड़े होकर दूर तक देखा करता कि कब गुरूजी की नैय्या आए। अपने झुब्बा नुमा मैले कुर्ते को किसी तरह धो कर साफ़ सुथरा पहनने की कोशिश करता क्योंकि गुरूजी ने साफ़ कपडे पहनने के लिए कहा है। और जब गुरू जी ने बताया कि अब वह नही आएगी तब घीसा बडा सा तरबूज लेकर उन्हें विदा करने आया, तरबूज को थोडा सा काट कर यह भी निश्चित कर लिया कि तरबूज ठीक है – वाह !  क्या गुरू दक्षिणा दी। उस समय इसका भावनात्मक मूल्य समझने की हमारी उम्र भी नही थी।

आठवीं कक्षा में मैंने उनकी रचना पढी – बिन्दा …. जिसे कहानी की तरह पढा। सौतेली माँ के कटु व्यवहार को झेलने वाली बिन्दा से हम जुड से गए। उसकी तकलीफ को महसूस करने लगे, विशेषकर यह प्रसंग बहुत बुरा लगा जहां बिन्दा के बाल काट दिए जाते है और सिर पर काली लकीरे खींच दी जाती है। अंत में बिन्दा का चेचक में गुज़र जाना और अंतिम पंक्तियाँ कि बिन्दा और उसकी सौतेली माँ की कहानी समाप्त नही हुई, हर युग में है .. उस उम्र में ऎसी कहानी ! हम सबकी आँखे नम हो आई थी।

उसके बाद कालेज में महादेवी जी की कुछ काव्य रचनाएं पढी थी लेकिन कुछ ख़ास असर नहीं रहा। फिर जब यूनिवर्सिटी में आए एम ए में, तब जाना महादेवी जी के रहस्यवाद को, उनके अज्ञात प्रियतम को, उनके वास्तविक जीवन को और लगाव हुआ उनकी काव्य रचना – मैं नीर भारी दुःख की बदली से

और पाठ्यक्रम में पढा – अतीत के चलचित्र … तब जाना कि न घीसा पाठ है और न ही बिन्दा कहानी की लडकी बल्कि सभी हमारे समाज के जीते जागते चरित्र है जो महादेवी जी के जीवन में आए। कुछ और चरित्र पढे पर सबसे अधिक भाया – रामा … महादेवी जी का बूढा नौकर। बचपन में महादेवी जी और उनके दोनों भाइयो की देखभाल करता रामा, उनकी शरारते झेलता। तीनो राजा भैय्या बने रहना चाहते थे, उन्हें लगता की इस पदवी से बहुत बडे हो जाएगे, तभी उन्हें दूसरे को राजा भैय्या कहा जाना बुरा लगता, इसीसे रामा तीनो के कान में अलग-अलग यह कह देता कि असली राजा भैय्या तुम्ही हो, और तीनो अपने आप में खुश। लेकिन यही रामा उस दिन बहुत परेशान हो गया जब मेले में बहुत सावधानी के साथ ऊंगली पकड कर तीनो को घुमाते-घुमाते अचानक महादेवी जी हाथ छुड़ा कर अलग हो गई और अकेली घूमते-घामते एक दूकान पर पहुंची और आराम से जलेबियाँ खाने लगी। जब हडबडाता हुआ रामा आया तो उसे देख बडे आराम से कहा – तुम इत्ते बडे हो कर भी खो जाते हो।

ये बचपन, फिर स्वाधीनता की लडाई का माहौल और सुभद्रा कुमारी चौहान जैसी उनकी सखियाँ, उन्हें आगे जीवन में एक अलग दिशा में ले गई, प्रयाग में महिला पीठ में काम, जीवन का इस दिशा में समर्पण और साहित्य साधना

बहुत प्रभावशाली व्यक्तित्व और रचना संसार है महादेवी जी का। आज बस इतना ही … कुछ और … फिर कभी …

हिन्दी जगत की गौरवशाली साहित्यकार को सादर नमन !

टिप्पणी करे

स्मृति शेष – आचार्य चतुरसेन शास्त्री

आज ख्यात साहित्यकार आचार्य चतुरसेन शास्त्री की पुण्यतिथि है।

हम चर्चा कर रहे है शास्त्री जी की श्रेष्ठ कृति की – वैशाली की नगर वधू 

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में रचा गया है यह उपन्यास जो मगध साम्राज्य के समय को दर्शाता है। बिम्बसार का राज्य और अजातशत्रु की शौर्य गाथा भी है इसमे लेकिन प्रमुख चरित्र है – आम्रपाली या अम्बपाली। आम के उद्यान में निःसन्तान सेवक दम्पति को शिशु रूप में मिली इस लड़की का नाम आम्रपाली ही रखा गया। माँ के निधन के बाद पिता ने अधिक दुलार से पाला। नृत्य की शिक्षा भी दी … परिणाम मात्र ग्यारह वर्ष की आयु में ज़बरन वैश्य घोषित कर दी गई और वैशाली राज्य की नगरवधू बन गई। 

राजनर्तकी बनी आम्रपाली के प्रशंसक भी बहुत रहे और प्रेमी भी, अजातशत्रु भी उसका प्रेमी रहा। लेकिन उसके जीवन की दिशा बदली बुद्ध के वैशाली आगमन के बाद। बुद्ध वहां अपने दस हज़ार शिष्यों के साथ पधारे। सभी शिष्य वैशाली की गलियों में भिक्षा माँगने लगे लेकिन एक भिक्षु के प्रति आम्रपाली आकर्षित हुई और उसने उस भिक्षु को अपने महल में रहने का निमन्त्रण दिया जिसे शिष्य ने बुद्ध की अनुमति से स्वीकार किया। ..फिर – धीरे धीरे स्वयं आम्रपाली जीवन के रहस्यो से परिचित होती गई और बुद्ध से अनुमति ले भिक्षुणी बनी और इस तरह पहली बार किसी महिला को यह अवसर मिला।

बाद में आम्रपाली ने महिला उत्थान के कार्य भी किए। स्वयं शास्त्री जी ने अपने इस उपन्यास को अपनी सर्वश्रेष्ठ कृति बताया। इसकी भूमिका में लिखा – 

“मैं अब तक की अपनी सारी रचनाओं को रद्द करता हूँ, और वैशाली की नगरवधू को अपनी एकमात्र रचना घोषित करता हूँ। ” 

इसी विषय पर आम्रपाली नाम से फिल्म भी बनी …. शास्त्री जी के साहित्य पर चर्चा फिर कभी …..

गौरवशाली साहित्यकार को सादर नमन !

 

 

Comments (2)

स्मृति शेष – भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

आज हिन्दी भाषा और साहित्य जगत के युगपुरूष भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की पुण्यतिथि है।

9 सिम्बर के दिन वर्ष 1850 में उनका जन्म हुआ था और 6 जनवरी 1885 को 35 वर्ष की अल्पायु में ही उनका निधन हो गया था.  इत्तेफाक देखिए कि सितम्बर और जनवरी दोनों ही महीने हिन्दी के लिए महत्वपूर्ण है।  14 सिम्बर 1949 को हिन्दी को संघ की भाषा के रूप में संविधान ने मान्यता दी थी और जनवरी का महीना भी विश्वव्यापीकरण और संचार माध्यम के इस युग में हिन्दी के लिए सितम्बर की तरह ही महत्वपूर्ण है. सूरीनाम में 2003 में आयोजित सातवें विश्व हिन्दी सम्मलेन में पारित प्रस्ताव के अनुसार वर्ष 2006 में भारत सरकार ने हिन्दी को विदेशों में मान्यता दिलाने के लिए 10 जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया.  इस निर्णय को लागू करते हुए एशिया और यूरोपीय देशो में वर्ष 2006 से हर वर्ष 10 जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस का आयोजन किया जाता है. 

हिन्दी भाषा की चर्चा भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी की चर्चा के बिना अधूरी है. हिन्दी भाषा का आज हम जिस रूप में प्रयोग कर रहे है वह रूप भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी का दिया हुआ हैं। पहले साहित्य की भाषा और बोलचाल की भाषा अलग थी। साहित्य काव्य में लिखा जाता था और साहित्य पढने और लिखने वाले विशिष्ट समूह के ही लोग होते थे यानि आम जनता से भाषा के कारण साहित्य दूर ही था। 17 वी शताब्दी में राज दरबारों में कवि विराजा करते थे और स्वाभाविक हैं कि काव्य शासको को प्रसन्न रखने के लिए रचा जाता था। इसीसे उस समय के काव्य में तलवार की टंकार और श्रृंगार की झंकार होती थी । 18 वी शताब्दी तक आते-आते राजनैतिक सामाजिक परिस्थितियाँ बदलने लगी थी। जनता को जागरूक रखने और पूरी तरह से समाज से जोडने का प्रयास किया जा रहा था जिसके लिए साहित्य एक सशक्त माध्यम बन सकता था। ऐसे में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने शुरूवात की साहित्य में पद्य के स्थान पर गद्य को आसीन करने की। गद्य यानि बोलचाल की भाषा में साहित्य रचा जाने लगा और बोलचाल की हिन्दी के रूप में खडी बोली का विकास हो रहा था जिससे खड़ी बोली साहित्य की भाषा बनी और हिंदी साहित्य का यह युग भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी के नाम पर कहलाया भारतेन्दु युग और इसे गद्य के विकास का युग माना गया।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी ने विभिन्न विधाओं, नाटक, रिपोर्ट लिखने की शैली, कथात्मक शैली की शुरूवात की। हिन्दी में नाटको का आरम्भ भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी से ही माना जाता हैं। उन्होंने अंधेर नगरी चौपट राजा जैसे हास्य प्रधान नाटक लिख कर आम जनता को साहित्य से जोडा। हालांकि उनकी रचनाओं में विशेषकर काव्य में बृज भाषा प्रभावी हैं पर देश की परिस्थितियां देखते हुए उन्होंने हिन्दी पर बल दिया और हिन्दी को मातृ भाषा यानि मातृ भूमि की भाषा माना और इसके लिए रचे कुछ दोहे –

निज भाषा उन्नति अहै सब उन्नति को मूल, बिन निज भाषा ज्ञान के मिटत न हिय को सूल।
अंग्रेजी पढि के जदपि सब गुन होत प्रवीन, पै निज भाषा ज्ञान बिन रहत हीन के हीन।
उन्नति पूरी है तबहि जब घर उन्नति होय, निज शरीर उन्नति किए रहत मूढ़ सब कोय।
निज भाषा उन्नति बिना कबहुं न ह्यैहैं सोय, लाख उपाय अनेक यों भले करे किन कोय।
इक भाषा इक जीव इक मति सब घर के लोग, तबै बनत है सबन सों मिटत मूढ़ता सोग।
और एक अति लाभ यह या में प्रगट लखात, निज भाषा में कीजिए जो विद्या की बात।
तेहि सुनि पावै लाभ सब बात सुनै जो कोय, यह गुन भाषा और महं कबहूं नाही होय।
विविध कला शिक्षा अमित ज्ञान अनेक प्रकार, सब देसन से लै करहू भाषा माहि प्रचार।
भारत में सब भिन्न अति ताहीं सों उत्पात, विविध देस मतहू विविध भाषा विविध लखात।
सब मिल तासों छाडि कै दूजे और उपाय, उन्नति भाषा की करहु अहो भातगन आय।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी के साहित्य पर कुछ और चर्चा फिर कभी …..
हिन्दी भाषा और साहित्य जगत के युगपुरूष को सादर नमन !

टिप्पणी करे

स्मृति शेष – सुमन राजे

आज हिन्दी जगत की ख्यात कवियित्री सुमन राजे की पुण्यतिथि है।

कविता की चर्चा करें तो कहना न होगा कि हिन्दी साहित्य में कविता का लोकप्रिय युग रहा है – छायावाद .. जिसमें पहली बार मानव मन की सूक्ष्म अनुभूतियों को कविता का विषय बनाया गया। विशेष गुण रहा प्रकृति में मानवीय भावों की छाया देखना – प्रकृति का मानवीकरण। यह युग तीस के दशक के अंत से ही समाप्त होता गया लेकिन बहुत कम कवि ऐसे रहे जिन्होनें अपनी आधुनिक काव्य शैली में भी कुछ रचनाओं के माध्यम से  इस शैली को आगे बढ़ाया जिनमें से एक है कवियित्री सुमन राजे जिन्होने सत्तर के दशक तक छायावादी शैली को बनाए रखा।

प्रकृति का मानवीकरण प्रस्तुत है – 
गंगा उलट कर निगल जाती है पूरा समुद्र
और चन्द्रमा सूर्य को बन्दी बना लेता है

इतना ही नहीं अपितु अपने दर्द की व्याख्या भी इसी शैली में हुई जैसे – 

मेरा दर्द मुझसे भी बङा हो गया
और रू-ब-रू आदमक़द
मेरे ही सामने खङा हो गया

वास्तव में सुमन जी ने अपनी कविताओं द्वारा समाज के प्रति अपने उद्गार प्रकट किए। कहीं अभिव्यक्ति प्रत्यक्ष रही तो कहीं प्रेरणा का पुट सम्मिलित रहा। सुमन जी ने स्वयं माना है कि वास्तव में कविता मिट्टी खाकर मिट्टी रचती है। सपने खा कर सपने उगलती है …  सुमन जी के इस कथन को उनकी रचनाएं प्रमाणित भी करती है।

आरंभिक रचनाओं के समय कवियित्री ग्रामीण परिवेश से घिरी थी। बाद में लखनऊ आ गई जिससे कविताओं में आंचलिकता के साथ बौद्धिकता का मिश्रण झलकता है। कविता में हृदय की तीव्र अनुभूतियों के साथ – साथ मस्तिषक की विचार रूपी लहरें भी समान रूप से विद्यमान है। रचना प्रक्रिया में इनमें टकराव नहीं है। सुमन जी का मानना है कि अकेले व्यक्ति के प्रयत्नों से न समाज को गति मिल सकती है और न ही जीवन सार्थक हो सकता है। हर युग में आवश्यकता होती है किसी न किसी रूप में एक क्रान्ति की। उगे हुए हाथों के जंगल – रचना से कुछ पंक्तियां – 

संभावनाओं के दरवाज़े पर धरना दिए
ज़िन्दगानियां रीत गई
ये ज़ंग लगे दरवाज़े खोले नहीं तोङे गए

लेकिन इस तरह के संदेशों से कहीं युवा पीढ़ी अपने ही बल पर ऐसे आगे न बढ़ने लगे कि गरिमामय अतीत को ही बिसरा दें, इसी से कहा – 

इतिहास की शिनाख्त अब ज़ुबान से कभी नहीं होगी
क्योंकि ज़ुबाने काट कर हमने माथे पर सजा ली है

जीवन की सच्चाईयों को भी कविताओं का प्रमुख विषय बनाया है। आधुनिक जीवन में संबंधों के बदलते समीकरण की प्रस्तुति इन शब्दों में – 

भाषा से काट दे चाहे
जीवन में संबंध वाचक शब्द अभी बाक़ी है

सुमन जी के शब्द संसार में तत्सम, उर्दू, अंग्रेज़ी और देशज शब्दों के साथ शब्दों की नादात्मकता भी दिखाई देती है – प्रत्यंचा, आले, ग़ुबार, सीरीज़, ठनठना … साथ ही नए शब्द भी गढ़े है जैसे ज़ख्माते ..  

यह थी एक झलक सुमन जी की उन रचनाओं की जो 1979 में अज्ञेय जी द्वारा चौथा सप्तक में सम्पादित की गई जिसमें सात कवियों में अकेली कवियित्री रही – सुमन राजे … जिन्हे पढ़ कर यूं कहा जा सकता है कि हिन्दी काव्य में मीरा के पदों से जो आरंभ महिलाओं का रहा, वह काव्य धारा सुभद्रा कुमारी चौहान की झांसी  की रानी से होती हुई महादेवी वर्मा की नीर भरी बदली से बरस कर आधुनिक युग में सुमन राजे की काव्य धारा के रूप में सदी के अंतिम छोर तक बढ चली।

सुमन जी की रचनाओं पर कुछ और चर्चा फिर कभी ….गौरवशाली कवियित्री को सादर नमन !

टिप्पणी करे

Older Posts »