Archive for वृन्दावन

वृन्दावन कुञ्ज

वृन्दावन के कुञ्ज की चर्चा कई कवियों ने की। इसकी चर्चा कृष्ण के साथ, रासलीला के साथ की जाती है। वास्तव में जब भी कृष्ण की चर्चा होती है राधा की, गोपियों की और कुञ्ज की चर्चा होती है। कुञ्ज देखने में बहुत सुन्दर है जिसे यहां निधिवन कहा जाता है। यहाँ के बारे में कई बाते बाताई जाती है जिनका आधार पौराणिक ही है –
20141012-0040
भीतर प्रवेश करते ही पूजापा के नाम पर श्रृंगार की टोकरी मिलती है जो राधा जी के लिए चढावा है जिसमे श्रृंगार का सब सामान होता है। कुञ्ज  में  श्रृंगार मंदिर है जिसमे सामने एक शैय्या है और यही श्रृद्धालु अपना चढावा रखते है। चारो ओर भी श्रृंगार का सामान रखा है। माना जाता है कि रोज़ रात में यहाँ कृष्ण आते है और राधा का श्रृंगार करते है इसीसे सवेरे इस मंदिर में श्रृंगार का सामान बिखरा पडा मिलता है। यहाँ दावे के साथ कहा जाता है कि रात में सभी सामग्री को करीने से सजा कर रख दे तब भी सवेरे सारा सामान बिखरा हुआ ही मिलेगा।
यह श्रृंगार मंदिर भीतर है। बाहर से हम भीतर जाते ही एक ओर खुला क्षेत्र है जिसके लिए कहा जाता है कि यहाँ रोज़ रात में कृष्ण जी आते है और राधा व गोपियीं संग रास लीला करते है, यहाँ से कुञ्ज शुरू होता है। दोनों ओर झाड़ियाँ है बीच की पगडंडी से चलने का रास्ता है। झाड़ियाँ ज़मीन से घनी नहीं है जिससे नीचे की साफ़-सुथरी ज़मीन नज़र आती है। कुछ झाड़ियों में पत्ते ही नही है –
 100_8377
कुछ झाड़ियों में पत्ते है और यह पत्ते शमी ( सोना रूपा ) के पत्तों की तरह नज़र आते है। लेकिन इन्हें शमी के पत्ते मानने से इनकार किया जा रहा है। वास्तव में यहाँ झाड़ियाँ न कह कर लताएं कहा जा रहा है और यह भी बताया जा रहा है कि इन लताओं की कोई पहचान नही है, इन्हें कभी पानी नहीं दिया जाता, इनके तने खोखले है
100_8387
 पर ये हमेशा हरे-भरे रहते है, इनका अध्ययन भी किया गया पर कोई जानकारी नहीं मिल पाई –
100_8376
इस कुञ्ज में भीतर रात में कोई नहीं रहता। इसे बंद कर दिया जाता है क्योंकि रात में कृष्ण भगवान रास रचाने आते है और इसे देखने की मनाही है। कुछ लोगो ने देखने की कोशिश की, इस बात को जांचने के लिए रात में रुके लेकिन सुबह मृत पाए गए और उनके मृत शरीर के रोंगटे खडे थे।  यह भी माना जाता है कि रात में यहाँ से घुँघरूओं की आवाज़ सुनाई देती है, हमने कहा  कि तने खोखले है शायद कीटों की आवाज़ हो इस पर कहा गया कि इन लताओं-फताओं में कीट नही लगते।
बेहतर होगा कि इन सारी बातों की सही ढंग से जांच हो .. खैर …. कुञ्ज में सैर करने में मज़ा आता है। यहाँ सूखा कुआ भी है जिन्हें राधा की प्यास बुझाने कृष्ण द्वारा खोदा गया माना जाता है
100_8378
यहाँ एक मूर्त रूप बहुत सुन्दर है जिसमे राधा और सखी ललिता कृष्ण की मुरली लेकर उल्टा उन्हें ही चोर बना देते है। ललिता मंदिर भी सुन्दर है।
वृन्दावन देखने के बाद हम पहुंचे गोकुल धाम  जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में …
Advertisements

टिप्पणी करे

वृन्दावन

बरसाना देखने के बाद हम वृन्दावन देखने गए। वृन्दावन में छोटी संकरी गलियाँ है जिन्हें कुञ्ज गलियाँ कहते हैं –

12550020

यहाँ बन्दर भी बहुत है और मंदिरों के पास उत्पात भी बहुत करते है। हाथ से सामान झटक ले जाते है पर वहां तैनात कर्मचारी डण्डे से पकड कर श्रृद्धालुओं का सामान लौटाते रहते है
सबसे पहले देखा गोविन्द देव मंदिर। यहाँ कृष्ण गोविन्द देव के रूप में विराजमान है –
Photo0024
आगे कुञ्ज गलियों को पार करते हुए बीच में रास चौक है यहीं  वट वृक्ष है यहाँ छोटा सा मंदिर है इस स्मृति में कि कृष्ण और सखा सभी गायों को वट वृक्ष के नीचे इकट्ठा कर फिर उन्हें चराने ले जाते थे –
12550021
पास ही की कुञ्ज गली में इसके बाद हमने देखा यहाँ का सबसे प्राचीन मंदिर वृन्दावन का बांके  बिहारी का मंदिर, यहाँ नन्द यशोदा मैय्या और माखन चोर कृष्ण की सुन्दर मूर्ति है।
इन कुञ्ज गलियों में छोटी – छोटी दुकाने सजाए मीठा दही और मक्खानदार लस्सी बेचने वाले बहुत है।
इन्ही गलियों से होकर हम पहुंचे कुञ्ज जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में ….

टिप्पणी करे