Archive for मैसूर

गुन्डल गाँव का गुन्डल सिल्क

मैसूर ऊटी सीमा पर नन्जेश्वर मंदिर देखने के बाद थोड़ा आगे बढ़ते ही एक गाँव हैं जिसका नाम हैं गुन्डल पेट।

दक्षिण भारतीय भाषाओं में पेट का अर्थ होता हैं शहर। पर यह शहर नही गाँव ही हैं। इस गाँव में मुख्य रूप से सिल्क का काम होता हैं। सिल्क के कीड़े पालने से लेकर बुनाई, छपाई, रंगाई सभी यहीं होता हैं इसीसे इसे गुन्डल सिल्क कहते हैं।

वैसे गुन्डल सिल्क की साड़ियाँ हमारी देश की महिलाओं के लिए नया नाम नही हैं। दक्षिण भारत में यह साड़ियाँ बहुत मिलती हैं और देश के अन्य भागों में साउथ इन्डियन सिल्क की साड़ियों की वेरायटी में यह साड़ियाँ आसानी से गुन्डल सिल्क या साउथ इन्डियन सिल्क के नाम से मिल जाती हैं। इसमे सभी तरह की साड़ियाँ मिलती हैं, प्रिंटेड साड़ियाँ रोजमर्रा के पहनने के लिए और जरी के काम की विशेष अवसरों पर पहनने के लिए और इसी के अनुसार इनके अलग-अलग मूल्य हैं।

शहर से अगर इन साड़ियो को खरीदा जाए तो विभिन्न करो को मिलाकर इनके दाम अधिक हो जाते हैं। हम तो ज्यादा पैसे दे देते हैं पर साड़ियाँ तैयार करने वालो को उतने पैसे नही मिल पाते हैं। यदि इन साड़ियों को इसी गाँव से खरीदा जाए तो हमें बहुत कम मूल्य देना पडेगा और साड़ियाँ तैयार करने वालो को फिर भी अधिक ही लाभ होता हैं। इस तरह इस गाँव की हम सहायता कर सकते हैं।

साड़ियाँ वाकई बहुत अच्छी हैं। रेशम की गुणवत्ता (क्वालिटी) और जरी के काम के अनुसार इनके दाम तीन सौ रूपए से शुरू होकर चालीस हजार तक हैं।

यहाँ से हमारी ऊटी की लगभग पांच घंटे की रोमांचक यात्रा शुरू हुई जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में....

Advertisements

टिप्पणी करे

नन्जेश्वर मंदिर

मैसूर से ऊटी जाते समय सुबह सबसे पहले मैसूर की सीमा पर देखा नन्जेश्वर मंदिर।

यह लगभग 1000 वर्ष पुराना मंदिर हैं। गणेश जी के विभिन्न देवताओं से हुए युद्ध की स्मृति में यह मंदिर बनवाया गया हैं। उस समय यहाँ के राजपरिवार इसी मंदिर में आया करते थे।

बाहर शिवजी की विशाल प्रतिमा हैं। बहुत बड़ा मंदिर हैं -

मंदिर के मुख्य द्वार पर खडा हाथी सामंती प्रथा दर्शा रहा हैं -

आज भी इसकी बनावट इतनी सुन्दर कि यह हजार साल पुराना नही लगता -

गेहुएं रंग के पत्थर से बने इस मंदिर के गोपुरम और विशाल चारदीवारी के ऊपर की गई शिल्पकारी में गणेश जी के विभिन्न युद्धों की झलकियाँ हैं। शिल्पकारी देखने योग्य हैं -

मंदिर में गणेश जी, शिव जी और पार्वती जी के अलग-अलग गर्भ गृह हैं। बड़े अहाते में एक किनारे 108 शिव लिंग हैं। पत्थरो से निर्मित इस विशाल मंदिर में एक स्थान ऐसा भी हैं जहां ऊंची छत से सवेरे सूर्य की पहली किरण आती हैं।

मंदिर में दर्शन कर हम आगे बड़े और पहुंचे एक महत्वपूर्ण गाँव में जिसके बारे में छोटी लेकिन महत्वपूर्ण जानकारी अगले चिट्ठे में.....

Comments (1)

मैसूर का वृन्दावन गार्डन

पिछली बार जब हमने मैसूर की यात्रा की थी तब ही हम चिट्ठो में विवरण लिख चुके.

वृन्दावन गार्डन के बारे में भी लिखा था पर चित्र रोशनी के, रात के समय के रखे थे. इस बार कुछ चित्र प्रस्तुत हैं दिन के उजाले के.

देखिए दिन के उजाले में यह गार्डन कैसा लगता हैं –

मैसूर से जब ऊटी की ओर बढे तब मैसूर की सीमा पर देखा नन्जेश्वर मंदिर जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में….

टिप्पणी करे

स्वाद की चर्चा

यात्रा का मज़ा तब बढ जाता है जब हम वहाँ के विशेष खाने-पीने का आनन्द लेते है। इस मामले में हमारी बैंग्लोर-मैसूर की यात्रा कुछ बदमज़ा ही रही।

शुरूवात करते है सुबह के नाश्ते से। हमने कर्नाटक के बिसिबिल भात के बारे में सुना था पर इसे खाना तो दूर हमने कभी इसे देखा भी नहीं। सोचा यहाँ तो ज़रूर मिलेगा। मीनू कार्ड में था भी पर जब आर्डर दिया तो बताया गया कि नहीं है। हमने सोचा शायद किसी और रेस्तराँ में मिले पर नहीं मिला।

आखिर हमने रेलवे स्टेशन पर यहाँ तक कि गली के नुक्कड़ के खोमचे वाले से भी पूछा तो वहाँ भी नहीं मिला। हमें खेद है कि यह हमारे लिए सुनी-सुनाई बात ही रह गई न हम इसे चख़ पाए और न ही देख पाए।

कुछ ऐसी ही स्थिति रही मैसूर भजिए की। हैदराबाद में हम बहुत खाते है मैसूर भजिए। यह दाल से बनाए जाते है। नरम-नरम गोल-गोल भजिए नारियल की चटनी के साथ शाम की चाय के साथ खाए जाते है। हमने सुना कि यह कर्नाटक की विशेषता है जैसा कि इसका नाम ही है जहाँ यह और बड़े और ज्यादा नरम होते है। पर बिसिबिल भात की ही तरह यह मीनू कार्ड पर ही रहे देखने को भी नहीं मिले, गली नुक्कड़ पर भी नहीं।

सुबह के नाश्ते में हमने इडली खाई। स्वाद तो वैसा ही है जैसा आन्ध्रा में होता है और खाने का तरीका भी वही है नारियल की चटनी के साथ पर देखने में इडली कुछ अलग है। आकार बड़ा गोल है पर सपाट है जबकि आन्ध्रप्रदेश में आकार में छोटी गोल और ऊपर की ओर उभार तथा किनारे दबे होते है।

जब बात चली है इडली की तो साँभर की भी बात हो जाए। यहाँ का साँभर भी कुछ अलग ही रहा। इसमें अरहर की दाल ज्यादा थी और सब्जियाँ कम और तीख़ापन भी कम ही था जबकि आन्ध्रा के साँभर में दाल कम होती है और टमाटर के साथ सहजन की फली और कुछ दूसरी सब्जियाँ अधिक होती है और सूखे धनिए के अधिक प्रयोग से तीख़ा भी बहुत होता है।

दक्षिण के भोजन की एक और खास चीज़ है दही-चावल। हैदराबाद में जो दही-चावल हम खाते है वो एकदम सफ़ेद होते है क्योंकि इसमें दही-चावल के अलावा थोड़ी सी उड़द की दाल और कभी-कभार सूखा धनिया मिलाया जाता है पर कर्नाटक के दही-चावल हमें देखने में बहुत ख़ूबसूरत लगे क्योंकि यहाँ बारीक कटे हरे धनिए का प्रयोग किया जाता है। सफ़ेद झक दही-चावल पर बारीक कटा हरा धनिया बिखरा हुआ… है न खूबसूरत…

अब कुछ फलों की बात करें। हैदराबाद की ही तरह हमें यहाँ भी जगह-जगह केले बिकते नज़र आए। हैदराबाद में केले को मौज़ कहते है। मौज़ के छिलकों पर काले छीटे हो तो यह छीटें वाले मौज़ अच्छे माने जाते है। इन छीटों में नैसर्गिक शक्कर होती है। कर्नाटक के केलों के छिलकों पर एक भी छींटा नज़र नहीं आया। आकार भी बहुत छोटा था पर बहुत मीठे थे इसीलिए बहुत अच्छे लगे।

हैदराबाद में अमरूद को जाम कहते है वैसे आन्ध्रप्रदेश में या तेलुगु भाषा में जाम पन्ड्लु कहते है। पन्ड्लु का अर्थ है फल। सभी जाम भीतर से सफेद होते है। भीतर से गहरे गुलाबी या जिसे लाल अमरूद कहते है हमने बचपन में कभी-कभार खाए थे पर कर्नाटक में तो सभी अमरूद लाल थे।

इस तरह खट्टी-मीठी यादें लेकर हम हैदराबाद लौट आए।

Comments (6)

वृन्दावन गार्डन

मैसूर में जिस अन्तिम स्थल की हमने सैर की वो है वृन्दावन गार्डन

यहाँ पहुँचते ही गाड़ियों का काफ़िला देख कर हम हैरान हो गए - अररे ! इतने लोग आए है सैर के लिए !

हमने टिकट लिया साथ में कैमरे के लिए भी पचास रूपए का टिकट लिया और भीतर जाने के लिए लाइन में खड़े हो गए। कुछ देर बाद भीतर पहुँचे।

बाईं ओर से आगे बढते गए। बहुत सुन्दर संवारा गया बगीचा और फव्वारे। कुछ देर रूक कर फिर आगे कुछ सीढियाँ चढते गए और देखते गए कुछ और सुन्दर बगीचे और फव्वारे।

फिर हमने देखा बीचों-बीच छोटी-छोटी सी सीढियाँ और उस पर पानी का रेला। देखते ही हमें याद आ गए महमूद और उनकी फ़िल्म पड़ोसन -

सबसे ज्यादा याद आ गया वह सीन जहाँ सायरा बानो ज़ोर से पुकारती है - मास्टरजी ! और महमूद इंगेमा कहते हुए एक हाथ से लुंगी पकड़ कर तेज़ चलते हुए पूरे बगीचे का चक्कर लगाते हुए सायरा बानो के पास पहुँचते है।

हमें लगता है इस फ़िल्म के बाद से ही शायद यह गार्डन अधिक लोकप्रिय हुआ। ख़ैर…

अँधेरा होते ही पूरा गार्डन रंग-बिरंगी रोशनी में नहा गया -

फव्वारों को देखकर लग रहा था जैसे लाल पीला हरा नीला पानी झिलमिला रहा हो -

ऊपर कुछ फव्वारों में सुन्दर मूर्तियाँ भी लगी थी। इसके बाद हम नीचे लौट कर आने लगे और प्रवेश द्वार के पहले दूसरी ओर सैर के लिए पुल की ओर बढ गए। बीच में छोटा सा पुल दाहिनी ओर पानी जिसमें लोग बोटिंग का आनन्द ले रहे थे पर बाईं ओर पानी भी नहीं था और इस जगह को संवारा भी नहीं गया था।

पुल पर सैर कर ठंडी हवा का आनन्द लेकर हम लौट आए। यहाँ चाय, काँफ़ी, फलों के रस, कूल ड्रिंक, कटे फल, आइसक्रीम जैसा सभी बिक रहा था।

वाकई यह अंतिम सैर बहुत ही अच्छी रही। लेकिन कोई भी यात्रा का विवरण तब तक अधूरा रहता है जब तक हम वहाँ के खान-पान की बात न करें। तो अगले चिट्ठे में हम करेगें इसकी चर्चा।

Comments (3)

चामुंडेश्वरी मन्दिर

मैसूर के महाराजा का महल देखने के बाद हम चल पड़े चामुंडेश्वरी मन्दिर की ओर।

जहाँ से चामुंडेश्वरी मन्दिर के लिए चढाई शुरू होती है वहीं से बाईं ओर निचला रास्ता ललिता महल की ओर जाता है। यह महल मैसूर की महारानी का है। अब यहाँ संग्रहालय है।

इसी निचले रास्ते के बाईं ओर है चन्दन के पेड़। जैसे-जैसे हम चढाई चढते गए हमें चन्दन के पेड़ों का जंगल सा नज़र आया पर बताया गया कि वास्तव में पेड़ बहुत कम हो गए है शायद इसका एक कारण तस्करी है। ख़ैर…

इस दाहिने रास्ते पर हमारी गाड़ी चढाव चढती जा रही थी कि हमें एक बोर्ड दिखाई दिया जिस पर लिखा था यह दक्षिण की सबसे दुर्गम पहाड़ी है।

आगे जाने के बाद हमने देखी दाहिनी ओर स्थापित नन्दी की विशाल प्रतिमा। बहुत सुन्दर गढी गई है यह प्रतिमा। गले पर शिव, पार्वती, गणपति, कार्तिकेय की छोटी-छोटी आकृतियाँ है -

हमने नन्दी की पूजा की परिक्रमा की। नन्दी के पिछली ओर छोटी सी गुफ़ा है जो चित्र में भी आपको नज़र आ रही है जिसमें बैठे-बैठे भीतर जाना पड़ता है। भीतर शिवलिंग है। भीतर जगह बड़ी है। पंडितजी भी विराजते है। पूजा हुई और प्रसाद बँटा। प्रसाद लेकर हम बैठे-बैठे गुफ़ा से बाहर आए।

नन्दी के मुख की ओर से ऊपर जाने के लिए सीढियाँ शुरू होती है। लगभग एक हज़ार सीढियाँ चढकर चामुंडेश्वरी मन्दिर जाया जाता है पर हमने बाईं ओर का सड़क का रास्ता लिया और गाड़ी से ऊपर गए।

ऊपर जहाँ गाड़ी पार्क की वहाँ बाज़ार लगा था जैसा कि आमतौर पर मन्दिरों के पास होता है। यहाँ एक चीज़ हमें नई और अच्छी लगी - लकड़ी की छोटी कलात्मक कलशनुमा डिबिया जो दस रूपए में एक बेची जा रही थी।

बताया गया कि इस डिबिया को मन्दिर में पुजारी को देने पर पुजारी चामुंडेश्वरी देवी पर चढाया गया कुमकुम इसमें भर कर प्रसाद के रूप में देंगें। चाहे तो एक से अधिक डिबिया भी ले सकते है जिससे दूसरों को भी देवी माँ का यह प्रसाद दे सकें।

पूजा की सामग्री हमनें खरीदी जिसमें सफ़ेद, हल्के और गहरे गुलाबी रंग के बहुत सुन्दर और ताज़े कमल के फूल अधिक थे जिसके साथ हमनें डिबिया भी खरीदी और बढ गए मन्दिर की ओर। इक्का-दुक्का बन्दर नज़र आने लगे। जैसे-जैसे हम मन्दिर के समीप बढते गए बन्दरों की संख्या भी बढती गई।

बाहर से मन्दिर -

गुम्बद पर देवी के सभी रूपों की कलाकृतियाँ उकेरी गई है -

भीतर पत्थर से बने इस मन्दिर में नीम अँधेरे में माँ चामुंडेश्वरी की विशाल प्रतिमा दमक रही थी। भीड़ अधिक नहीं थी। हमने पंडितजी को डिबिया के साथ पूजा की सामग्री दी और पंडितजी ने प्रसाद के साथ डिबिया में प्रसाद रूपी कुमकुम भी भर कर दिया। हम पूजा और परिक्रमा कर बाहर आए। पिछवाड़े छोटे से मन्दिर में गणपति और शिवलिंग भी है। यहाँ भी पूजा कर हम लौट आए।

यहाँ से हम बाहर निकले और हमारा अगला कार्यक्रम था वृन्दावन गार्डन की सैर पर रास्ते में हमने देखी पश्चिमी वाहिनी नदी। जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि यह नदी पश्चिम दिशा से निकलती है जबकि सभी नदियाँ पूर्व दिशा से निकलती है। इसीलिए यहाँ तर्पण आदि कार्य सम्पन्न होते है। यहाँ शिवजी का छोटा सा मन्दिर भी है।

Comments (5)

मैसूर पैलेस

फिलोमिना चर्च देखने के बाद हमने दोपहर का भोजन किया। अब कार्यक्रम था महल देखने का यानि मैसूर का मशहूर पैलेस।

यह राजमहल मैसूर के कृष्णराजा वाडियार चतुर्थ का है। यह पैलेस बाद में बनवाया गया। इससे पहले का राजमहल चन्दन की लकड़ियों से बना था। एक दुर्घटना में इस राजमहल की बहुत क्षति हुई जिसके बाद यह दूसरा महल बनवाया गया।

पहले महल को बाद में ठीक किया गया जहाँ अब संग्रहालय है। हम पहुँचे इस दूसरे महल को देखने जो ज्यादा बड़ा और अच्छा है। यह है प्रवेश द्वार -

प्रवेशद्वार से भीतर जाते ही मिट्टी के रास्ते पर दाहिनी ओर एक काउंटर है जहाँ कैमरा और सेलफोन जमा करना है। इसका तरीका हमें बहुत अच्छा लगा।

कैमरा और सेलफोन लेकर वो उसे एक लाँकर में रख देते है और उस लाँकर की चाभी आपको दे देते है। हर पर्यटक का एक लाँकर और हर सेलफोन और कैमरे के लिए शुल्क पाँच रूपए। यह मैनें पहली बार देखा।

काउंटर के पास है सोने के कलश से सजा मन्दिर -

दूसरे छोर पर भी ऐसा ही एक मन्दिर है जो नीचे दी गई तस्वीर में दूर धुँधला सा नज़र आ रहा है यानि दोनों छोरों पर है मन्दिर जो मिट्टी के रास्ते पर है और विपरीत दिशा में है महल का मुख्य भवन तथा बीच में है उद्यान -

महल की इस तस्वीर को देखिए जिसमें बाईं ओर कम ऊँचाई का जो अहाता नज़र आ रहा है वहीं है महल के भीतर जाने का प्रवेश द्वार पर यहाँ बड़े से काउंटर पर जूते-चप्पल रखवाने है और नंगे पैर महल के भीतर जाना है -

भीतर हम पहुँचे विशाल कक्ष में जिसके किनारों के गलियारों में थोड़ी-थोड़ी दूरी पर स्तम्भ है। इन स्तम्भों और छत पर बारीक सुनहरी नक्काशी है। दीवारों पर क्रम से चित्र लगे है। हर चित्र पर विवरण लिखा है।

कृष्णराजा वाडियार परिवार के चित्र। राजा चतुर्थ के यज्ञोपवीत संस्कार के चित्र। विभिन्न अवसरों पर लिए गए चित्र। राजतिलक के चित्र। सेना के चित्र। राजा द्वारा जनता की फ़रियाद सुनते चित्र। एक चित्र पर हमने देखा प्रसिद्ध चित्रकार राजा रवि वर्मा का नाम लिखा था। लग रहा था लगभग सभी चित्र रवि वर्मा ने ही तैयार किए।

चित्रों में मैसूर का दशहरा उत्सव दर्शाया गया है। पहले चित्र में सामने एक ऊँट पर मंत्री झंडा लिए है जिसका अर्थ है कि राजा का जुलूस आ रहा है। मुख्य चित्र तो बहुत ही बड़ा और बहुत सुन्दर है जिसमें हाथी पर सिंहासन पर राजा विराजमान है साथ में जनता का हुजूम चल रहा है और घरों की खिड़कियों से महिलाएँ झाँक कर जुलूस देख रही है।

कक्ष के बीचों-बीच छत नहीं है और ऊपर तक गुंबद है जो रंग-बिरंगे काँचों से बना है। ऐसे लग रहा था इन रंग-बिरंगे काँचों का चुनाव सूरज और चाँद की रोशनी को महल में ठीक से पहुँचाने के लिए किया गया था।

निचला विशाल कक्ष देखने के बाद हम सीढियाँ चढते हुए पहले तल पर पहुँचे। सीढियाँ इतनी चौड़ी कि एक साथ बहुत से लोग चढ सकें। वैसे उस दिन वहाँ भीड़ भी बहुत थी जिनमें स्थानीय लोग भी बहुत नज़र आए।

पहला तल पूजा का स्थान लगा। यहाँ सभी देवी-देवताओं के चित्र लगे थे। साथ ही महाराजा और महारानी द्वारा यज्ञ और पूजा किए जाने के चित्र लगे थे। बीच का गुंबद यहाँ तक था।

फिर हम पहुँचे दूसरे तल पर जो दरबार हाँल है। बीच के बड़े से भाग को चारों ओर से कई सुनहरे स्तम्भ घेरे थे। इस घेरे से बाहर बाएँ और दाएँ गोलाकार स्थान है। शायद एक ओर महारानी और दरबार की अन्य महिलाएँ बैठा करतीं थी और दूसरी ओर से शायद जनता की फ़रियाद सुनी जाती थी क्योंकि यहाँ से बाहरी मैदान नज़र आ रहा था और बाहर जाने के लिए दोनों ओर से सीढियाँ भी है जहाँ अब बाड़ लगा दी गई है।

इसी तल पर पिछले भाग में एक छोटे से कक्ष में सोने के तीन सिंहासन है - महाराजा, महारानी और युवराज के

आज भी इतना आकर्षक है यह महल -

तो उस समय कैसा रहा होगा यही सोचते हुए हम बाहर निकल आए।

Comments (5)

Older Posts »