Archive for ऊटी

ऊटी से वापसी की यात्रा

डॉल्फिन नोज देखने के बाद हम कुन्नूर से ऊटी लौट आए और वहां से वापस हैदराबाद लौटने के लिए मैसूर की ओर यात्रा शुरू की।

नीम अँधेरे में नीलगिरी के ऊंचे पेड़ काले साए से लगने लगे। इस पहाडी क्षेत्र को पार कर हम जंगल में पहुंचे। अन्धेरा हो चला था। इस वक़्त जंगल में हाथियों का राज नजर आया। बन्दर और छोटे-छोटे लंगूर शायद सो चुके थे।

लेकिन हाथी ज्यादा मस्त हो गए थे, सड़क के किनारे से टहलने लगे थे। टहलते हुए हाथी के पास से गाड़ी निकल जाती तो रोमांच हो आता। इस समय वन अधिकारी हाथियों पर सवार हो कर यहाँ गश्त लगाते हैं, यह नजारा और भी रोमांचक रहा।

संकरी सड़क और रात का अन्धेरा, ऐसे में एक गाड़ी रास्ते में खराब हो जाए तो अन्य गाड़ियां पास से धीमे-धीमे आगे बढ़ पाती हैं। ऐसे ही एक स्थान पर एक टूरिस्ट बस में कुछ खराबी आ गई, ड्राइवर और उसके साथी गाड़ी ठीक करने लगे। जैसे की आमतौर पर होता हैं कुछ यात्री भी बस से नीचे उतर आए। किसी ने बताया आगे हाथी हैं तब ड्राइवर यात्रियों से बस में बैठने के लिए कहने लगा। हमें लगा हाथी से ऐसा भी क्या खतरा हो सकता हैं पर हैदराबाद लौटने के लगभग दो सप्ताह बाद खबरों में देखा कि पौ फटने के समय काम पर जा रहे एक लडके की हाथी के कुचलने से मृत्यु हो गई और वहां से गुजर रहे दो-चार लोग लडके को बचाने में घायल हो गए। वैसे भी अँधेरे में सड़क के किनारे से चलते हाथी को दूर से पहचानना कठिन होता हैं। पास से हलचल से ही पहचाना जा सकता हैं।

इस जंगल की यात्रा में सबसे रोमांचक समय रात्री का अंतिम प्रहर होता हैं। पौ फटने तक कुछ अधिक ही जानवर सड़क के किनारे तक आते हैं जिसमे हाथियों के साथ हिरण भी हैं। इस क्षेत्र की शिकार की ज्यादातर घटनाएं इसी समय की हैं जिसमे कई महत्वपूर्ण हस्तियाँ भी शामिल रही।

इस तरह हमने अपनी यात्रा पूरी की और बैंगलौर से होते हुए हैदराबाद लौट आए।

टिप्पणी करे

डॉल्फिन नोज

कुन्नूर में ठण्डे मौसम में वहां के चाय बागानों की चाय की चुस्कियों के बाद हम डॉल्फिन नोज देखने गए।

यह हैं डॉल्फिन नोज -

यहाँ से 15-20 पहाडी सीढियां चढ़ने के बाद छतरीनुमा स्थान हैं जो सबसे ऊंचा स्थान हैं वहां से ली गई तस्वीर -

जैसे कि नाम से समझा जा सकता हैं यह व्यू-प्वाइंट मछली के मुंह की तरह हैं। यहाँ खड़े होकर कुन्नूर ऊटी के पूरे पहाडी क्षेत्र को देखा जा सकता हैं।

यह कुन्नूर के छोर पर स्थित एक आकर्षक व्यू-प्वाइंट हैं। यहाँ पहाडी वर्षा का हमने पूरा आनंद लिया। रिमझिम बरसते हुए तेज घेरा आता हैं फिर धीमा होकर बूंदा-बांदी होने लगती हैं, फिर पूरी तरह से बारिश रूक जाती हैं। फिर वही सिलसिला...

सामने पहाडो पर बहते झरने की जलधारा पतली रेखा की तरह नजर आई और नीचे हरी-भरी घाटी। लेकिन तस्वीर में बादलों के कारण कुछ भी दिखाई नही दे रहा हैं। यहाँ से पीछे कतार में इस भीगे मौसम के लिए भेलपूरी, कुरमुरी मूंगफली, गरमागरम भजिए आदि की दुकाने सजी थी।

इसके बाद हमने लौटने की तैयारी की, इस सफ़र की चर्चा अगले चिट्ठे में....

टिप्पणी करे

कुन्नूर के चाय बागान

पूरे कुन्नूर में चाय के बागान फैले हुए हैं।

सबसे ज्यादा बागान सत्तर के दशक की लोकप्रिय अभिनेत्री मुमताज़ के हैं। संकरी सड़क के एक ओर ऊंचे चाय बागान हैं और दूसरी ओर हैं निचली घाटी। सभी बागान हरे-भरे थे। पास-पास लगे पौधों के गुच्छे थोड़ी-थोड़ी दूर पर हरी छतरियों की तरह नजर आ रहे थे और पूरा बागान दूर से देखने पर हरी चादर सा नजर आता हैं।

ये बागान ऊंचे हैं यानि सड़क से कुछ ऊंचा चढना पड़ता हैं -

हर बागान में आराम से घूम सकते हैं लेकिन ऊंचा-नीचा होने से संभल कर चलना पड़ता हैं। यहाँ दो बाते ख़ास हैं - यहाँ कुछ प्रोफेशनल्स चाय के बारे में बताते हैं। उनके बताए अनुसार पूरे पौधे में पत्तियाँ तीन-तीन पत्तों के समूह में होती हैं पर काम की सिर्फ ऊपर की तीन पत्तियाँ ही होती हैं -

सबसे नई, छोटी कोमल पत्ती से ग्रीन टी बनाई जाती हैं, यह पत्ती बीच में होती हैं। उसके नीचे दो पत्तियाँ आमने-सामने होती हैं जिनमे से एक पत्ती से चॉकलेट और दूसरी पत्ती से मसाला चाय बनाई जाती हैं। यहाँ की फैक्ट्री में चाय तैयार होती हैं। पहले फैक्ट्री में पर्यटकों को पत्तियों से भुरभुरी दानेदार चाय तैयार करना दिखाया जाता था पर अब फैक्ट्री में पर्यटकों के जाने की मनाही हैं इसीसे बागानों में ही प्रोफेशनल्स बता रहे थे।

सप्ताह में एक बार पत्तियाँ तोडी जाती हैं। पौधों से वर्षों तक पत्तियाँ तोडी जा सकती हैं। पत्तियाँ तोड़ने का काम महिलाएं करती हैं। यहाँ की दूसरी ख़ास बात हैं यहाँ प्रोफेशनल फोटोग्राफर होते हैं जिनके पास पत्तियाँ तोड़ कर रखने वाली बड़ी बांस की टोकरी भी होती हैं और एक बड़ा स्कार्फ भी। कई पर्यटक महिलाएं यह स्कार्फ सिर पर बाँध कर पीछे टोकरी लटका कर पत्ती तोड़ने वाली महिला के रूप में फोटो खिचवा रही थी -

इन बागानों में चाय के पौधों के बीच-बीच में रबर के ऊंचे पेड़ हैं। इस तरह इन बागानों से चाय के अलावा रबर भी मिलता हैं।

ये सभी तस्वीरें मुमताज़ के ही बागानों की हैं।

यहाँ मुमताज़ के पति मयूर मधुवानी का उन्ही के नाम से एक बड़ा स्टोर हैं जो यहाँ का एक मात्र स्टोर हैं। यहाँ तीनो तरह की चाय - ग्रीन, चॉकलेट और मसाला चाय तथा सभी तरह के मसाले छोटे-बड़े हर पैकेट में मिलते हैं जो यहीं फैक्ट्रियों में तैयार किए जाने से शुद्ध और कम दाम में मिलते हैं। यहाँ तक की ऊटी की मार्किट से भी कम दाम में।

इस स्टोर में पर्यटकों के लिए गरमागरम तीनो चाय मिलती हैं। ठण्डे मौसम में चाय की चुस्कियों के बाद हम डॉल्फिन नोज देखने गए जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में....

Comments (2)

Older Posts »