स्मृति शेष – कीर्ति चौधरी

आज हिन्दी साहित्य की ख्यात कवियित्री कीर्ति चौधरी की पुण्य तिथि है।  
 
कीर्ति चौधरी को साहित्य प्रेमियों ने जाना अज्ञेय जी द्वारा संपादित तीसरा सप्तक से जिनके सात कवियों में एक मात्र कवियित्री रही कीर्ति चौधरी। तार सप्तक (1943) और दूसरा सप्तक (1951) की अगली कडी तीसरा सप्तक का प्रकाशन 1959 में तथा दूसरा व तीसरा संस्करण 1961 और 1967 में हुआ। तीसरा सप्तक की भूमिका में स्वयं अज्ञेय जी ने स्वीकारा है कि अब काव्य की नई प्रवृत्ति को बनाए रखना अनिवार्य हो गया है जिसका अर्थ यह है कि कीर्ति चौधरी जी साहित्य की नई काव्य प्रवृत्ति की माननीय कवियित्री है।  
 
इस दौर में समाज में व्यक्ति अपनो द्वारा ही शोषित हो रहा था। इस तरह की कई नई अनुभूतियों के बावजूद भी कीर्ति जी की रचनाएँ एकदम नए धरातल पर नही रही, कारण कि उन्हें साहित्यिक संस्कार अपनी माँ सुमित्रा कुमारी सिन्हा से मिले जो जानी – मानी कवियित्री और लेखिका है। पति ओंकारनाथ श्रीवास्तव है जो बीबीसी रेडियो की हिन्दी सेवा से जुङे रहे। इसीलिए सिद्धान्तों की प्रमुखता होते हुए भी भावात्मकता है। इसका कारण यही है कि परिवेश में जकङे होने से वह अपने आपको मुक्त न कर पाई अर्थात् रचनाओं में पूरी तरह से नवीनता नहीं है।  स्वयं कीर्ति जी ने यह माना है –
 
” नई कविता परस्पर विरोधी या विरोधी जान पडने वाले गुणो और विशेषताओं का अनोखा  संगम है।” 
 
उन्हें समाज भी ऐसा ही लगा. आधुनिक समाज  का चित्रण करते हुए कीर्ति जी ने यह माना है कि आधुनिक मानव टूटता जा रहा है। परिस्थितियों से मात्र समझौता करना ही मनुष्य के लिए इस समाज में बने रहने के लिए उचित है तभी तो –
 
” कि फर्क जल्दी समझ में नहीं आता
यह दुर्दिन है या सुदिन है “
 
हर्ष व रूदन में अंतर न कर पाने का कारण यही है –
 
” जैसे घृणा और प्यार के जो नियम है
उन्हें कोई नहीं जानता “
 
सभी का जीवन एक ही लीक पर गतिमान है और उसके लिए वह विवश भी है –
 
” यह कैसी लाचारी है
कि हमने अपनी सहजता भी
एकदम बिसारी है “
 
वक़्त शीर्षक की इस रचना में कीर्ति जी का कहना है कि जीवन एक ही लीक पर गतिमान है और इसके लिए वह विवश भी है। जीवन की भावशून्यता या यांत्रिकी जीवन शैली को इस पंक्ति से बताया  – 
 
” कि किसी को कडी बात कहो,  तो भी वह बुरा नहीं मानता ” 
 
सभी अपने ढ़ंग से जीने के लिए विवश है। अपनी अंतरात्मा की प्रेरणा पर वह कुछ कर नहीं पाते अपितु परिस्थितियॉँ ही उन्हें जीवन का एक मार्ग चुन कर देती है। प्रबल वर्जनाओं को झेलता हुआ भी आधुनिक मानव जीवित है और भविष्य के प्रति आशान्वित है। इस आशा का कारण आवाज़ कविता में इस तरह से है –
 
” सभी क्षुब्ध खिलाड़ी
असफलता का राज़ तुम्हे बतलाएगे।
अब कैसे कौन कहाँ अनजाने
गिर पडता जतलाएगे।
पथ – दर्शन जो चलने पर
उनको नहीं मिला दे जाएगे। “
 
कार्यक्रम कविता में एक क़दम और आगे बढ कर कहा कि क्षोभ से जीवन नीरस हो रहा है किन्तु –
 
” हम सब से सच मनो
कुछ नहीं होना।
ज़िन्दगी को वैसा न बनाओ
कि लगे बोझ ढोना 
………
थोडा हाथ पैर चलाओ
इन्ही पैरो की चाप से
निर्झर फूटेगे “
 
इसी युग में कविता में जीवन के लिए बोझ शब्द का प्रयोग होने लगा था। वैसे काव्यगत प्रवृतियों में भले ही परिवर्तन हो जाए किन्तु प्रेम, प्रकृति और सौन्दर्य सदैव ही कविता का विषय रहे। कालिदास से वर्तमान युग तक कुछ विषय कविता की परिधि से छूटते गए पर प्रेम की स्थिति संकेन्द्रीय रही। छायावादी शैली में कीर्ति चौधरी ने अपनी कविता अनुपस्थिति में प्रेमी की अनुपस्थिति का चित्रण इस प्रकार किया है –
 
” निर्बल होते मन पर सहसा याद गिरी
केवल एक तुम ही इस गृह में नहीं
आज के दिन ” 
 
पौराणिक घटनाओं का प्रयोग भी किया गया। एकलव्य की कथा को ठीक उसी रूप में ग्रहण करते हुए एक संक्षिप्त सी रचना एकलव्य शार्षक से रची जिसमें द्रोणाचार्य के प्रति एकलव्य के भावों को व्यक्त करती कवियित्री कहती है –
 
” सब था तुम्हारा 
अरे सब कुछ तुम्हारा
तुम्ही उससे अभिज्ञ रहे 
अथवा वह मेरा समर्पण अब झूठा था “
 
कला पक्ष में परम्परा और नूतनता दोनों का समावेश है। तत्सम शब्द, ऊर्दू और अंग्रेज़ी के शब्द तथा देशज शब्दों का भी प्रयोग हुआ है साथ ही शब्दों में नादात्मकता भी दिखाई देती है। शब्द संसार की एक झलक –
 
स्निग्ध, दीठ, बावले, नियामतें, पैड, दिशि-दिशि के अलावा हरे – भरे होना के लिए नया शब्द भी बनाया – हरियाघे …
 
काव्य सौष्ठव पर एक नज़र – प्रिय की प्रतीक्षा में रत इस समाज की बेङियों में जकङी रह कर उसे लक्ष्मण रेखा माना है। यह लाक्षणिक अभिव्यक्ति प्रस्तुत है –
 
” मृग तो नहीं था कहीं
बावले भरमते से इंगित पर चले गए। 
तुम भी नहीं थे –
बस केवल यह रेखा थी
जिस में बंध कर मैंनें दुःसह प्रतीक्षा की। ”  
 
कीर्ति जी की रचनाओं पर कुछ और चर्चा फिर कभी ….
 
हिन्दी जगत की गौरवशाली साहित्यकार को सादर नमन !
 
 

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: