द्वारकाधीश का मंदिर- पश्चिमाम्नाय शारदा पीठम

हम पहुंचे द्वारिका जहां देखा वहां का प्रमुख मंदिर – द्वारकाधीश का मंदिर … जिसका वास्तविक नाम है – पश्चिमाम्नाय शारदा पीठम

20160401_141452

परिसर में विष्णु के विभिन्न रूप और सत्यनारायण की विभिन्न कक्षों में मूर्तियां है. दर्शन के गलियारे में एक छोर पर देवकी माँ की मूर्ति है और गलियारे के दूसरे छोर पर गर्भगृह में कृष्ण जी की श्याम मूर्ति है.

पीछे बाई ओर पटरानियों का मंदिर है जिसमे विशाल कक्ष में क्रम से – जांबवंती, ललिता, सत्यभामा, रूक्मिणी आदि की मूर्तियां है.

दूसरी ओर कुछः ऊंचाई पर चंद्रमौलेश्वर का दरबार सजा है. बीच के कक्ष में असली रूद्राक्ष, चन्दन आदि की मालाएं और अन्य पूजा उपयोगी कीमती वस्तुएं बिक्री के लिए रखी है.

चार मंज़िला इमारत बहुत ही सुन्दर शिल्पकारी से बनी है. इसकी ऊपरी तीनों मंज़िले खाली है.

ऊपर धार्मिक झंडा लहराता है जो विशिष्ट शुभ दिन पर किसी भक्त समूह द्वारा बदला जाता है, जिस दिन हम गए उस समय भक्तों का एक समूह आया और भजन-कीर्तन के जोर-शोर के साथ झंडा बदल कर नया झंडा फहरा गया.

20160331_182044

इसके बाद हम गए गांधी जी की जन्म स्थली पोरबंदर जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में …

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: