ज्योतिसार तीर्थ

गीता उपदेश की स्मृति में है – ज्योतिसार तीर्थ। यह सरोवर के किनारे है –

20141008-0048

यहाँ बङे वृक्ष की छाँह में छोटा प्राचीन शिव मन्दिर है जिसका ऐतिहासिक महत्व है। इसे विभिन्न आक्रमणों का गवाह माना जाता है और इसमें इसकी क्षति भी हुई। आगे विभिन्न कक्षों में विभिन्न पौराणिक घटनाओं की झलकियाँ है जिसमें कृष्ण, अर्जुन, भीष्म, नारद, दुर्योधन, द्रोणाचार्य, बाल गोपाल आदि की सुन्दर मूर्तियाँ है –

20141008-0050

इसके पीछे समाधि स्थल है। पहली तस्वीर में दिखाई देने वाला सरोवर तट ही है प्रमुख स्थल है। यहाँ विष्णु, दुर्गा, व्यास, गणेश जी के छोटे-छोटे मन्दिर है –

20141008-0053

20141008-0054

प्राचीन पेङ है जहाँ लिखा है – गीता उपदेश स्थल –

20141008-0056

यहाँ रथ में अर्जुन और सारथी बने कृष्ण की उपदेश देती झांकी है। यही दृश्य पीछे सुन्दर शिल्पकारी में है-

20141008-0059

पीछे का बङा भाग खुला और हरियाला है।
इसके बाद हमने देखा कल्पना चावला तारामंडल जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में ..
Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: