गणेश पूजन व्रत के आहार में तोम्मी कूरा

कूरा तेलुगु भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है – सब्जी।

यह हरी पत्तेदार सब्जी हैं जिसे यहाँ हैदराबाद में तोम्मी कूरा कहते हैं। अन्य शहरों में क्या कहते हैं, मुझे पता नहीं हैं। वनस्पति विज्ञान के अंतर्गत इसकी जानकारी भी मुझे नही मिली। यह तस्वीर देखिए शायद आप पहचान जाए –

 

20140826-0001

डंठल पर पत्ते लगे होते हैं, कही-कहीं छोटे सफ़ेद फूल भी नजर आते हैं –

 

20140826-0003

 

सब्जी पत्तों की बनती हैं –

 

20140826-0002

यह सब्जी सिर्फ गणेश चतुर्थी के समय ही मिलती हैं।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि इस समय बारिश के मौसम के कारण विभिन्न तरह के जंगली फूल-पत्ते उग आते हैं। इनमे कागज़ के फूल भी होते हैं, ऑक के फूल और फल भी होते हैं, इसके अलावा और भी तरह के पत्ते होते हैं जिन्हें हम जंगली पत्ते कहते हैं पर उनके नाम नही जानते। इन्ही सब पत्ते फूलो को गणपति की मूर्ति पर पूजा के समय चढ़ाया जाता हैं।

इस तरह के तरह-तरह के पत्ते-फूल केवल इस पूजा के समय ही नजर आते हैं। साल भर में केवल एक ही बार। अन्य किसी भी समय गणेश जी की पूजा सामान्य फूलो से ही होती हैं।

इससे यह स्पष्ट होता हैं कि यह बारिश का मौसम होता हैं। ऐसे में गीली मिट्टी में तरह-तरह की घास उग आती हैं। यह पत्ते ज्यादा बारिश के बाद उग आने वाली घास के होने से केवल इसी समय मिलते हैं।

आमतौर पर घास के पत्तो को मानव आहार के लिए अपोषकीय माना जाता हैं और यह पशुओं का चारा होता हैं। ऐसे में तोम्मी कूरा ऎसी घास हैं जो मानव के लिए आहार हैं।

जिस तरह पौराणिक मान्यता के अनुसार इस दिन गणेश पूजा जंगली फूल पत्तो से करने का प्रावधान हैं उसी तरह भोजन के लिए भी जंगली घास का प्रावधान हैं, तोम्मी कूरा ऎसी ही घास होने से गणेश चतुर्थी और अनंत चतुर्दशी के व्रत के भोजन में खाई जाती हैं। चूंकि यह सामान्य पत्तेदार सब्जी नही हैं, इसीलिए इसे बनाने की विधि भी अलग हैं।

सामग्री हैं – एक किलो तोम्मी कूरा (यह डंठल के साथ होती हैं इसीसे एक किलो में अधिक मात्रा होती हैं पर पत्तियाँ निकालने पर मात्रा बहुत कम हो जाती हैं), 250 ग्राम कच्ची इमली, 10-12 हरी मिर्चे, थोड़ा सा घी, एक-चौथाई चम्मच जीरे के दाने, स्वाद के अनुसार नमक। वैसे बाजार में तोम्मी कूरा, कच्ची इमली और हरी मिर्च एक साथ बिकती हैं।

विधि – इसे बनाना बहुत आसान हैं। कच्ची इमली को पानी में उबाल ले। फिर छान ले। इस खट्टे पानी में बारीक कटे पत्तों को हरी मिर्च के साथ पका ले। जब पक जाए तब छौंक लगा दे जिसके लिए घी गरम कर उसमे जीरा डाले। छौंकने के बाद नमक मिला दे। सब्जी तैयार हैं।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: