त्रियम्बकेश्वर मंदिर और कुशावर्त तीर्थ

नासिक में सबसे पहले हम त्रियम्बकेश्वर मंदिर देखने गए।

मंदिर का परिसर विशाल हैं जिसमे अंतिम छोर पर हैं कुशावर्त तीर्थ। परिसर के प्रवेश पर ही कैमरे की मनाही से एक भी चित्र नही ले सके।

मंदिर का गोपुरम कुछ इस तरह से बना हैं कि यह रूद्राक्ष के मनको से बना दिखाई देता हैं। मंदिर के प्रांगण में त्रिमूर्ति - ब्रह्मा, विष्णु, महेश के विग्रह हैं, इसी से यह त्रियम्बकेश्वर मंदिर कहलाया। श्रद्धालुओ की बहुत भीड़ थी। हर दिन होती हैं, इसीलिए लम्बी कतारों में हर कतार के अंत में पीने के पानी की व्यवस्था भी हैं।

यहाँ गणेश, कार्तिकेय, पार्वती के अलग-अलग मंदिर बने हुए हैं। सबसे बड़ा आकर्षण हैं नंदी। विशाल नंदी की मूर्ति जीवंत लगती हैं। पूजा की सामग्री और मन्नत की सामग्री नंदी पर ही चढाने का प्रावधान हैं। यहाँ पुरोहित भी हैं। माना जाता हैं कि नंदी वाहन हैं इसीलिए श्रद्धालुओ की मनोकामना प्रभु तक यहीं से पहुंचती हैं।

सभी के दर्शन करते हुए अंत में गर्भगृह पहुंचते हैं जहां सामान्य से कुछ बड़े आकार का शिवलिंग हैं। दर्शन कर जब लौटते हैं तब लिंग के ठीक ऊपर बने दर्पण में से दूर तक दर्शन किए जा सकते हैं। गर्भगृह से निकलते ही पुरोहित एक नारियल देते हैं जिसे घर जाकर फोड़ा जाता हैं। बाहर निकलने के बाद प्रांगण में दूसरी ओर कतार में 108 शिवलिंग हैं।

यहाँ से निकल कर हम कुशावर्त तीर्थ गए।

छोटा सा तालाब जैसा हैं जिसमे बहुत साफ़-सुथरा पानी हैं। श्रद्धालु किनारे पर सजी दुकानों से आस्था के दीप लेकर अन्य सामग्री के साथ पत्ते पर रखकर पानी में छोड़ रहे थे। स्नान करने वालो का तांता लगा था।

पूरे परिसर में पूजापा के साथ-साथ खाने-पीने की चीजो और मूर्तियाँ आदि चीजो की कई दुकाने सजी थी। यहाँ कुछ गौऊएं भी थी जिनके पास खड़े लोग बड़े हरे विशेष तरह के पत्तो के छोटे-छोटे बण्डल बेच रहे थे जिन्हें खरीद कर गौ को खिलाया जा रहा था।

यहाँ से निकल कर हम पहुंचे पंचवटी जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में...

Advertisements

1 टिप्पणी »

  1. atulgaur said

    bahoot nek kam kiya kiya jo aapne bhi darsan kiye aur un bato se aur logo ko bhi rubaru karya aap badaye ke patra hai.

RSS feed for comments on this post · TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s