मदुरै का मीनाक्षी मन्दिर

रामेश्वरम की यात्रा के दौरान हम एक दिन के लिए मदुरै गए थे।

रामेश्वरम से मदुरै 3 घण्टे का रास्ता है। पामबन पुल से होकर बस से हमने यह यात्रा की।

मदुरै में बस से उतरने के बाद बस अड्डे से लगभग 6 किलोमीटर की दूरी पर है मीनाक्षी मन्दिर। मुख्य सड़क से एक छोटी सड़क एक ओर जाती है जहाँ भीतर जाने पर दूर से नज़र आता है मीनाक्षी मन्दिर का कलश। यह है प्रवेश द्वार -

17950027

जैसा की आमतौर पर होता है प्रवेश द्वार पर पूजा सामग्री बिकती है, यहाँ भी मिल रही थी जिसे लेकर हम मन्दिर के भीतर पहुँचे पर भीतर पहुँचते ही देखा पूजा की सामग्री का बाज़ार लगा था जो मन्दिर की संस्था द्वारा चलाया जाता है।

यहाँ पार्वती-शिव, मीनाक्षी-सुन्दरेश्वर के रूप में है। माना जाता है कि पार्वती ने पांड्य राजा की पुत्री मीनाक्षी के रूप में अवतार लिया और कुछ समय तक शासन करने के बाद सुन्दरेश्वर से विवाह किया जो शिव का अवतार है। इस विवाह से प्रसन्न होकर शिवजी ने अपनी 64 लीलाएँ सारे भक्तों को दिखाई। इसीसे यहाँ मन्दिर की स्थापना की गई।

यह मन्दिर सातवीं सदी में बनवाया गया। उस समय शिवलिंग की स्थापना की गई थी और अहाता बनवाया गया था। बाद में यहाँ नायक वंश के राजाओं ने देवी मीनाक्षी की महत्ता बनाए रखने के लिए इसे मीनाक्षी मन्दिर का रूप दिया और विभिन्न मण्डपों को तैयार करवा कर मन्दिर को बड़ा और भव्य बनवाया। आने वाले समय में राजाओं ने और मण्डप तैयार करवाए जिससे समय के साथ-साथ इसका आकार और भव्यता बढती गई और यह मीनाक्षी मन्दिर के रूप में उभर आया।

प्रवेशद्वार जो पूर्वभाग में है जिस बड़े कक्ष की ओर जाता है उसे अष्टशक्ति मण्डप कहते है। यहाँ देवी मीनाक्षी के विवाह को कलात्मक शिल्पकारी से दर्शाया गया है। यहीं दोनों ओर गणेशजी और सुब्रह्मण्यम जी (कार्तिकेय) की मूर्तियाँ है। दीवारों पर शिवजी की विभिन्न लीलाओं को भी कलात्मक शिल्पकारी से दर्शाया गया है।

अष्टलक्ष्मी मण्डप को पार कर हम लम्बे चौड़े मीनाक्षी नायक मण्डप में गए। यहाँ 5 छोटे रास्ते है जो आपस में कलात्मक स्तम्भों से विभाजित है। बीच में शिव-पार्वती भील-भीलनी के रूप में दर्शन देते है। पश्चिमी कोने में 1008 पीतल के दीप है।

इस मण्डप के पास है इरूठटु (अंधकार) मण्डप जहाँ शिल्पकारी में पौराणिक कथाओं के अनुसार गणपति, मोहिनी आदि रूप दर्शाए गए है।

इस मण्डप को पार करते ही बाईं ओर एक तालाब है जिसे स्वर्णपदम जलाशय कहते है यानि सोने के कमल का तालाब। माना जाता है कि इन्द्र देवता की पूजा के लिए स्वर्ण कमल यहीं से तोड़े गए थे। स्वर्ण से बना एक सुन्दर कमल तालाब की शोभा बढा रहा था।

तालाब के आगे पश्चिम में ऊँचल (झूला) मण्डप है। बताया गया कि यहाँ हर शुक्रवार को संगमरमर के फ़र्श पर मीनाक्षी-सुन्दरेश्वर के विग्रह निकाल कर रखे जाते है ताकि श्रृद्धालु दर्शन कर सके।

झूला मण्डप के पास है किलिक्कूड़ु (तोता पिंजरा) मंडप। यहाँ तोतों को पाल कर पिंजरों में रखा जाता है। यहाँ भित्तियों और छत पर पांडवों, द्रौपदी के चित्र है। देवी मीनाक्षी के ब्याह को भी भित्ति चित्रों से यहाँ दर्शाया गया है। यहाँ गणपति की 8 फीट ऊँची मूर्ति है।

परम्परा के अनुसार पहले गणेश जी के दर्शन किए गए। इसके बाद जैसा कि परम्परा है कि पहले शिवजी के दर्शन किए जाते है फिर पार्वती जी के, यहाँ ऐसा नहीं है। यह पार्वती मन्दिर है, यहाँ पहले पार्वती के दर्शन किए जाते है जिसके बाद शिवजी के दर्शन किए जाते है।

यहाँ से हम फिर से मीनाक्षी देवी की प्रतिष्ठा के स्थान पर ही पहुँचते है लेकिन घूम कर। यहाँ का प्रवेशद्वार तिमंज़िला है जिसे गोपुरम कहते है। भीतर ऐरावत विनायकमूर्ति यानि हाथी पर सवार गणपति की मूर्ति और देवी मीनाक्षी की पालकी रखी है। यहाँ गर्भ गृह में हाथ में शुकवाही लिए भक्तों को अनुग्रह करती देवी मीनाक्षी (पार्वती जी) दर्शन देती है।

यहाँ तक पहुँचने के लिए भीड़ बहुत है लेकिन विशेष दर्शन की व्यवस्था है जिसके लिए प्रति व्यक्ति 100 रूपए देने पड़ते है। हमने भी विशेष दर्शन ही किए जिसके लिए लाइन में खड़े होने की आवश्यकता नहीं सीधे गर्भ गृह तक जा सकते है।

मूर्ति बहुत-बहुत भव्य है। यहाँ दो-तीन पुजारी होते है जो थोड़ी-थोड़ी देर बाद आरती करते जाते है और श्रृद्धालुओं को आरती, तीर्थ देते जाते है साथ ही मन्दिर और मूर्ति के बारे में बताते जाते है।

बताया गया कि देवी मीनाक्षी की मूर्ति के सामने बुध ग्रह है। मूर्ति के दर्शन करने के बाद पीछे मुड़कर उस दिशा में (जो मूर्ति के ठीक सामने है) देखते हुए प्रणाम किया जाता है। बुध ज्ञान का प्रतीक है। हरा पत्थर बुध का प्रतीक है। इसीलिए देवी की मूर्ति मरगत पत्थर से बनाई गई है। माना जाता है कि बुध के देव विष्णु और देवी गौरी है इसीलिए यहाँ माना जाता है कि देवी मीनाक्षी की उपासना करने वालों को अच्छी विद्या मिलती है। इसीसे बुधवार के दिन दर्शन करना बहुत अच्छा माना जाता है।

यहाँ से निकल कर हम आगे बढे सुन्दरेश्वर (शिवजी) के दर्शन के लिए जिसकी चर्चा अगले चिट्ठे में…

Advertisements

4 टिप्पणियाँ »

  1. बहुत सुन्दर वर्णन. मन प्रसन्न हो गया. आभार. क्या आपने तीन स्तनों वाले मीनाक्षी को देखा. कृपया इस लिंक पर जावें.
    http://mallar.wordpress.com/2009/01/05/अयोनिजा-गर्भ-के-बाहर-जन्म/

  2. Manish said

    विवरण तो बहुत अच्छा दिया आपने। क्या मंदिर के अंदर चित्र खींचने की अनुमति नहीं थी ?

  3. anug said

    मन्दिर के अन्दर चित्र खींचने की अनुमति थी और बहुत अच्छे कलात्मक चित्र मिलते पर हमने सोचा सुरक्षा कारणों से भीतर के चित्र न ले तो ठीक है।

  4. ashok bishnoi jodhpur said

    आपका दिखाया गया चित्र बहुत ही मन मोहक हैँ आप ऐसे ही चित्र दिखाते रहो जिससे दूनीया को कूछ नया देखने कौ मिलेगा अशोक विश्नोई जौधपूर

RSS feed for comments on this post · TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s