गुम होती काकतीय कला के कुछ चित्र

दक्षिण भारत की लोकप्रिय काकतीय कला अब गुम होती जा रही है। आन्ध्र प्रदेश में कुछ भवन इस कला के बेहतरीन उदाहरण है जिनमें से एक है वरंगल ज़िले के हनमकोण्डा में स्थित सहस्त्र स्तंभ मंदिर

warang5.jpg

इसे आम भाषा में हज़ार खंबों का मंदिर भी कहते है।

warang4.jpg

वैसे इसमें हज़ार स्तंभ कभी नहीं रहे।

warang3.jpg

जब निर्माण किया गया था तब भी 950 से कुछ अधिक ही खंबे थे।

warang2.jpg

पत्थरों पर कंगूरों की आकृती से शिल्पकारी ही इस कला का आकर्षण है।

warang11.jpg

अब यहां 50 से कुछ अधिक ही स्तूप (स्तम्भ) रह गए है। शेष सभी खंबे उखड़ गए है जिन्हें पास के मैदानी भाग में रखा गया है। पुरातत्व विभाग इसका संरक्षण कर रहा है।

Advertisements

6 टिप्पणियाँ »

  1. सुन्दर जानकारी.

  2. Annapurna said

    धन्यवाद संजय जी !

  3. now we shuld not polytics players we want a save us and our cultur and axtra ordinary who save all things.

  4. yashpal singh jodhpur said

    very good work for great indian architecture.i proud of you.

  5. arvind kumar anand said

    Shaandar itihaas

  6. अनाम said

    दुखद पर अति सुन्दर

RSS feed for comments on this post · TrackBack URI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s